यूपी में भगवे के खिलाफ पुलिस से शिकायत कर रहा था उन्मादी, अब खुद भागा अपनी शिकायत डिलीट कर के

ट्रेंडिंग

सबसे पहली चीज ये है की ठेले या दूकान पर 1 नहीं बल्कि 100 भगवा झंडा लगाना भी पूरी तरह क़ानूनी और संविधानिक है, कोई व्यक्ति अपने ठेले और दूकान को किस तरह सजाता है, उसपर अपने धार्मिक भावना के तहत कौन सा चिन्ह या प्रतिक लगाता है ये उस व्यक्ति की निजी धार्मिक स्वतंत्रता है पिछले कुछ समय में सेक्युलर सरकारों ने भगवे के खिलाफ गुंडई करते हुए हिन्दुओ पर कई तरह के अत्याचार किये है, तेलंगाना, झारखण्ड, बिहार में भगवा झंडा ठेले पर लगाने को लेकर मजहबी उन्मादियों ने पुलिस से शिकायत की है तो पुलिस ने हिन्दुओ का शोषण किया है तेलंगाना, झारखण्ड, बिहार में पुलिस मजहबी उन्मादियों की शिकायत पर फ़ौरन हरकत में नजर आई जिस से देश भर के मजहबी उन्मादियों के हौंसले बुलंद हो गए और एक मजहबी उन्मादी ने यूपी में भी भगवे के खिलाफ शिकायत की मेरठ में एक हिन्दू अपने ठेले पर भगवा झंडा लगाकर, अपनी धार्मिक स्वतंत्रता का इस्तेमाल करते हुए सब्जी बेच रहा था, जिसे देख कर तीह्जीब टीवी चलाने वाले मजहबी उन्मादी भड़क गए और पुलिस से उस हिन्दू ठेले वाले की शिकायत की 





बाद में में पुलिस ने जांच में इसमें कुछ भी गलत नहीं पाया और ये भी साफ़ कर दिया की इस व्यक्ति ने कोई गलती नहीं की है और इसके पास सब्जियां बेचने का पास भी है, इसके बाद तह्बीज टीवी के उन्मादी अपने त्वीट को ही डिलीट कर भाग खड़े हुए 

भगवा झंडा ठेले पर पूरी तरह क़ानूनी है और तहजीब टीवी वालो के खिलाफ अब लोग हिन्दुओ की धार्मिक भावना को आहात करने को लेकर केस की मांग कर रहे है, तह्बीज टीवी वाले धार्मिक भावना भड़का कर धार्मिक उन्माद मचाना चाहते है The Lazy Lawyer@BBTheorist

Now that @meerutpolice has found no illegality, a case must be registered against @TehzeebTvIndia for hurting religious sentiments, intimidating a govt authorized vegetable vendor and trying to incite communal passion by portraying saffron as a symbol of crime.
Cc @igrangemeerut

View image on Twitter
View image on Twitter

268Twitter Ads info and privacy137 people are talking about this
बता दें की उत्तर प्रदेश में कानून का राज है और यहाँ प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार चल रही है, यहाँ मजहबी उन्मादियों के दबाव में प्रशासन किसी की भी धार्मिक स्वतंत्रता का हनन नहीं करती जैसे की बिहार, झारखण्ड और तेलंगाना में सामने आया था 

Leave a Reply

Your email address will not be published.