खिलजी की तारीफ कर रहे थे जावेद अख्तर, लोगो ने पकड़ लिया, नंगा कर दिया लोगो ने इनके झूठ को

ट्रेंडिंग

एक दौर था जब जावेद अख्तर को इस देश में एक बड़ा लेखक माना जाता था, रामचंद्र गुहा, हबीब, रोमिला थापर जैसे लोगो को इतिहासकार माना जाता था पर सोशल मीडिया ने इन सबको पूरी तरह नंगा कर दिया है और अब इन लोगो के झूठ को लोग बड़ी आसानी से पकड़ लेते है
आज़ादी के बाद से ही भारत के पुरे इतिहास को वामपंथियों और मजहबी उन्मादियों ने झूठे तरीके से पेश किया, पर अब इनका एक एक झूठ नंगा होता जा रहा है 
जावेद अख्तर ने एक टीवी कार्यक्रम में तारिक फतह से बहस के दौरान खिलजी की खूब तारीफ की और खिलजी को भारत का रखवाला बता दिया
पर अब वो जमाना नहीं रहा जब इस देश में सोशल मीडिया नहीं था और जावेद अख्तर और रोमिला थापर जैसे लोगो की कही हुई बात को ही सच मान लिया जाता था, अब यहाँ इन कथित लेखको और इतिहासकारों के झूठ को पूरी तरह नंगा कर दिया जाता है
जावेद अख्तर ने जैसे ही खिलजी की तारीफ की, लोगो ने फ़ौरन उनके झूठ को पकड़ लिया और इस उम्र में जावेद अख्तर पूरी तरह नंगे कर दिए गए, सोशल मीडिया पर फर्जी इतिहासकारों की पोल खोलने वाले ट्रू इंडोलोजी ने जावेद अख्तर को इस बार नंगा किया
True Indology@TIinExile · 

This week, “Atheist” Javed Akhtar @Javedakhtarjadu appeared on national TV.

He glorified Khilji and other j!hadi invaders. He said those who oppose him do not know history.

In this thread I’d examine his FAKE claim with sources(1)https://youtu.be/sFUUOkDOp8Q  YouTube at 🏠 ‎@YouTube

True Indology@TIinExile

At 16.08, Tarek Fateh says “Khilji burnt Nalanda & a station is named after him” referring to Bakhtiyar Khilji.

Javed Akhtar responds with “but Alauddin was a great defender”

Javed who tells others to read history himself doesn’t know difference between Bakhtiyar & Alauddin.4,050Twitter Ads info and privacy1,561 people are talking about thisTrue Indology@TIinExile · Replying to @TIinExile

Trying to project Khilji as secular, Javed Akhtar claims Khilji refused to go to Dargah of Nuzamuddin Auliya.

This is FAKE.

Khilji visited Auliya’s Dargah. From Amir Khward’s “Sirat Ul Awliya”https://archive.org/details/Siyar-ul-auliyaurduTranslationHistoryOfChishtiSilsila/mode/2up …True Indology@TIinExile

Javed Akhtar’s story of Khilji refusing to visit Nizamuddin Auliya is NOT mentioned ANYWHERE AT ALL!

This is clearly FAKE!

Even today, the story of Alauddin Khilji’s visit to the Dargah of Nizamuddin Auliya is told and retold.https://youtu.be/7E3LhAn6pYI  YouTube at 🏠 ‎@YouTube

2,196Twitter Ads info and privacy785 people are talking about thisTrue Indology@TIinExile · Replying to @TIinExile

At 17.20, Javed Akhtar says “Alauddin Khilji constructed forts in Kandahar and stopped Mongols”

This is another FAKE claim.

Alauddin Khilji NEVER ventured until Kandahar. His kingdom ended at river Indus. Multan was west border of Khilji.

Even Peshawar belonged to the Mongols.True Indology@TIinExile

In those days, Kandahar was known as “Tiginabad” & it was firmly in the hands of Mongols.

The region of Afghanistan, including Khilji’s own homeland Khalj, was in the hands of Mongol commander Qatlagh Qocha followed by his successor Daud Qocha.

They frequently raided Punjab.

View image on Twitter
View image on Twitter

835Twitter Ads info and privacy295 people are talking about thisजावेद अख्तर के एक एक झूठ को ट्रू इंडोलोजी ने नंगा कर दिया, जावेद अख्तर ने कहा की – खिलजी ने तो भारत को मंगोलों से बचाया, जबकि सच ये है की मंगोलों ने खुद खिलजी के नेटिव इलाके जो की अफगानिस्तान में मौजूद था वहां कब्ज़ा कर लिया, खिलजी खुद अपने गाँव तक को तो बचा नहीं सका पर जावेद अख्तर के अनुसार खिलजी ने भारत को बचा लिया 
ट्रू इंडोलोजी यहीं नहीं रुके उन्होंने जावेद अख्तर को थोडा और नंगा किया और बताया की खिलजी का बाप खुद भारत भाग आया ताकि वो मंगोलों से बच सके, ट्रू इंडोलोजी ने ये भी बताया की – जावेद अख्तर को तो ये भी नहीं पता की बख्तियार खिलजी और अलाउद्दीन खिलजी दोनों अलग अलग थे
जावेद अख्तर जो की खुद को इतिहासकार और लेखक बनते है और आतंकवादी अलाउद्दीन खिलजी का बचाव करके उसे भारत का रखवाला बता रहे थे, उनके झूठ को लोगो ने नंगा करके रख दिया और जावेद अख्तर की नंगई सबके सामने आ गयी, आतंकवादियों के बचाव में वामपंथी और मजहबी उन्मादी किस तरह झूठ फैलाते है ये भी स्पष्ट हो गया 

Leave a Reply

Your email address will not be published.