‘भारत में घुसपैठ करने की सोचना भी मत, हमारी नजर तुम पर है’, अमरीका ने पाक को दी सख्त चेतावनी

ट्रेंडिंग

जम्मू-कश्मीर राज्य से विशेष अधिकार छीनने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने के फैसले ने पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ा दी है। पाक अब अमेरिका, यूएन और चीन समेत अंतराष्ट्रीय समुदाय से इस मामले पर हस्तक्षेप करने की गुहार लगा रहा है, लेकिन कोई भी उसके साथ खड़ा होने के लिए तैयार नहीं है। अमेरिका, श्रीलंका, यूएई और मालदीव जैसे देश पहले ही यह साफ कर चुके हैं कि कश्मीर मुद्दा भारत का आंतरिक मामला है और भारत के पास उसके संबंध में सभी अधिकार सुरक्षित हैं। इस सब के बाद आज अमेरिका ने हमारे शत्रु देश के मुंह पर एक और तमाचा जड़ा है। अमेरिका ने पाकिस्तान को कहा कि उसे बॉर्डर पर भारत के खिलाफ कोई भी उकसावे भरा कदम उठाने से बचना चाहिए, और उसे अपने यहां मौजूद आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई करनी चाहिए।

आज सुबह अमेरिका के स्टेट डिपार्टमेन्ट के एक अधिकारी ने अपने बयान में कहा कि ‘वे भारत द्वारा कश्मीर को लेकर उठाए गए कदमों और उनके प्रभावों को बड़े गौर से देख रहे हैं’। इसके साथ ही अधिकारी ने यह भी कहा कि ‘पाकिस्तान को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वह किसी भी तरह के तनाव को बढ़ावा ना दे और आतंकवाद के खिलाफ सख्त कदम उठाए’। बता दें कि इससे पहले बुधवार को  पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इस्लामाबाद में बुधवार को कहा था कि वे भारत द्वारा जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के फैसले के मद्देनजर इस पर चीन से चर्चा करने के लिए बीजिंग का दौरा करेंगे। यानि एक तरफ जहां पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर समर्थन के लिए चीन की ओर देख रहा है, ऐसे में अमेरिका ने पाक को उसकी जगह दिखाने का काम किया है।

कश्मीर को लेकर हमारे पड़ोसी देश की ओर से बुधवार को आधिकारिक प्रतिक्रिया आई थी। प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की अध्यक्षता में पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक हुई थी, जिसमें भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्ते को निलंबित करने की घोषणा की गई, इसके साथ ही एआरवाई टीवी से पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास से वो अपने राजदूत को जल्द बुला लेंगे और इस्लामाबाद से भारतीय राजदूत को वापस जाने को कहेंगे। पाक के केंद्रीय केबिनेट मंत्री फवाद चौधरी ने तो भारत से सभी कूटनीतिक रिश्ते तोड़ने की मांग कर डाली थी। इसके अलावा कल बैठक में यह भी तय किया गया था कि पाक के स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को कश्मीरियों के साथ एकजुटता प्रदर्शित करने के रूप में मनाया जाएगा जबकि भारत के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को काले दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

पाक द्वारा बौखलाहट में लिए गए कदमों के बाद ही अब अमेरिका ने पाकिस्तान को कड़ी फटकार लगाई है। पिछले हफ्ते इमरान खान अमेरिका के दौरे पर गए थे जहां उन्होंने ट्रम्प से कश्मीर मुद्दे पर बातचीत की थी। इसी मुलाक़ात के दौरान ट्रंप ने विवादित बयान दिया था कि भारत अमेरिका द्वारा कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता चाहता है, और इस बयान के बाद पाकिस्तान में जश्न मनाया गया था। इमरान खान की इस अमेरिका यात्रा को काफी सफल बताया गया और ट्रंप के कश्मीर को लेकर दिये गए बयान को पाक की कूटनीतिक जीत बताया गया।

हालांकि, जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के बाद अमेरिका ने पूरी तरह भारत का साथ दिया। अमेरिका ने इसे भारत का आंतरिक मामला बताया। इस बारे में अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मॉर्गन ओर्टागस ने कहा, ‘अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद अमेरिका जम्मू-कश्मीर के घटनाक्रम पर बारीक नजर बनाए हुए है’ इसके साथ ही उन्होंने पाक का नाम लिए बगैर जम्मू-कश्मीर के सभी पक्षों से नियंत्रण रेखा पर शांति और स्थिरता बनाए रखने की अपील भी की थी।

अमेरिका की इस फटकार के बाद पहले से कूटनीतिक तौर पर कमजोर पड़ चुके पाकिस्तान को जोरदार झटका लगा है। उसे उम्मीद थी कि इमरान खान द्वारा अमेरिका कि कथित सफल यात्रा के बाद अमेरिका कश्मीर मुद्दे पर उसका साथ देगा लेकिन पाक को यहां से भी निराशा ही हाथ लगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.