सैटेलाइट तस्वीरों से हुआ बड़ा खुलासा,युद्ध की तैयारी में जुटा पाकिस्‍तान,

ट्रेंडिंग

दुनिया के ज्‍यादातर देश कोरोन से लड़ाई लड़ने में व्‍यस्‍त हैं, लेकिन दो देश ऐसे भी हैं जो इस समय में अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। आश्‍चर्य की बात यह भी है कि दोनों दोस्‍त भी हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं पाकिस्‍तान और चीन की, क्‍योंकि इस कोरोना काल में भी दोनों ही देश कब्‍जा करके युद्ध के हालात पैदा करने में लगे हुए हैं।

चीन जहां साउथ चाइना सी के साथ-साथ भारत से लगते बॉर्डर पर अपने सैनिकों की संख्‍या में इजाफा करने में लगा हुआ है, वहीं दूसरी तरफ उसका दोस्‍त पाकिस्‍तान भी पीएमओ में नापाक हरकत अंजाम देने में लगा हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्‍तान को डर है कि भारत एक बार फिर आतंकियों का खात्‍मा करने के लिए सर्जिकल स्‍ट्राइक कर सकता है, इसी को देखते हुए वह युद्ध की तैयारियों के लिए खुद को मजबूत करने में लगा हुआ है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्‍तान पीओके के स्कार्दू में एक नया एयरबेस बना रहा है। हालांकि पाकिस्‍तान की इस नापाक साजिश पर भारतीय खुफिया एजेंसिया कड़ी नजर बनाए हुए हैं। हाल में ही ली गईं सैटेलाइट तस्वीरों से पाकिस्तान की इस हरकत के बारे में जानकारी मिली। इस तस्वीरों को ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनॉलिस्ट Detresfa ने जारी किया है। स्कार्दू के इस नए एयरपोर्ट पर अंडरग्राउंड फ्यूल स्टेशन और हथियार डिपो का भी निर्माण किया गया है।

क्‍यों डरा है पाकिस्‍तान

पाकिस्‍तान को डर लग रहा है कि भारत एक बार फिर आतंकियों का खात्‍मा करने के लिए सर्जिकल स्‍ट्राइक करेगा, क्‍योंकि जिस तरह से हंदवाड़ा मुठभेड़ में भारतीय सेना ने 5 जवानों को खोया था, उसके बाद एक बार फिर सर्जिकल स्‍ट्राइक की बात ने जोर पकड़ा था। यहीं नहीं इस डर के कारण पाकिस्तानी एयरफोर्स ने एलओसी के पास अपने एफ-16 और जेएफ-17 लड़ाकू विमानों को तैनात कर दिया था।

क्‍यों अहम है स्कार्दू एयरपोर्ट

पीओके के स्कार्दू में पाकिस्तानी जहां पर एयरबेस बना रहा है, उससे उसको बड़ा फायदा होगा। क्‍योंकि यहां से श्रीनगर और लेह की दूरी मात्र 200 किलोमीटर है। यहां से उड़ान भरने के बाद पाकिस्तानी लड़ाकू विमान मुश्किल से 5 मिनट में भारतीय वायुसीमा में प्रवेश कर सकते हैं। हालांकि वह सीमा पर तैनात भारतीय एयर डिफेंस को वे भेद नहीं सकते। यही नहीं जानकारों का कहना है कि पाकिस्‍तान यह काम चीन की मदद से कर रहा है, क्‍योंकि यहां से सीपीईसी पर भी नजर रखी जा सकती है।

जानकारों का मानना है कि पीओके में स्थित इस एयरबेस का इस्तेमाल चीनी वायुसेना भी कर सकती है। इससे यह भारत की सुरक्षा संबंधी चिंता को ज्‍यादा बढ़ा देता है। बता दें कि स्कार्दू में पाकिस्तान का सिविल एयरपोर्ट पहले से ही मौजूद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.