ये हैं भारत का एक ऐसा गांव, जहाँ औरतें गिलास में नहीं बल्कि पति की इस चीज़ में पीती हैं पानी!

ट्रेंडिंग

औरतों को समझा जाता हैं अबला

आज इस 21 वी शताब्दी में रहने के बावजूद आज भी हमारे देश में औरतों को एक ‘अबला नारी’ समझा जाता हैं . लेकिन जब हमारे देश में ऐसा माना जाता हैं की लड़का -लड़की एक बराबर हैं तो उन्हें बराबर अधिकार भी मिलना चाहिए. लड़कियों के हित के लिए तो संविधान ने भी कानून कई बनाये हैं ताकि कोई भी शख्स महिलाओं के साथ अत्याचार नहीं कर पाएगा. आजकल जंहा महिलाएं चांद पर तक पहुँच गयी हैं , लेकिन आज भी कई ऐसी जगह हैं जंहा पुरूषों ने औरतों की जिंदगी बद- से – बदतर कर दी हैं. ऐसे लोग औरतों को अपने पैरों की जूती समझते हैं .

औरतों जूतों से मारते है , फिर पीलाते है पानी

दरअसल राजस्थान अंधविश्वास है और ऐसा प्रचलन हैं की यंहा महिलाएं देवी के मंदिर में जाकर पति के पैरों में पहने हुए जूते को उसका पानी पिएंगी. और ये वही जूते होते हैं जिन्हें पहनकर उन औरतों के पति पूरी दुनिया का भ्रमण कर के आते हैं.

मुँह में जूता पकड़कर गांव में है घुमाते

राजस्थान में माता का एक मंदिर है जहां भूत उतारने का प्रचलन है, और जंहा कहा जाता हैं, यहां महिलायों के ऊपर से भूत उतारे जाते है, और ना जाने कैसे – कैसे अंधविश्वास पर विश्वास करते हैं. ऐसा मालूम चला हैं की , यंहा पूजा पाठ कराने वाले तांत्रिक इन जूतों से महिलाओ को मारते भी है साथ ही उन्हें जूतों को मुँह में पकड़वाकर पूरे गांव का चक्कर भी लगवाते हैं . इ

महिलाएं डरती है इन सबसे

यहाँ के तांत्रिक भूत – प्रेत को भगाने के नाम पर महिलाओं के साथ शर्मनाक हरकत भी करते हैं और साथ ही उन्हें मारते-पीटते भी हैं. आपको बता दें, कि ये पुजारी महिलाओं के साथ क्या कुछ नहीं करते असल में ये लोंग महिलाओं के सर पर मर्दों के गंदे जूते रखकर कई किलोमीटर तक पूरे गाँव में घुमवाते हैं . दवाब और डर के चलते कोई महिला किसी से कुछ बोलती भी नहीं हैं.

मर्द रखना चाहते हैं नीचे

दरअसल , यहां के मर्द यह चाहते है की महिलएं हमेशा उनकी पैरों की जुती बनकर रहे और आगे बढ़कर कुछ न कर पाए. औरतों को सिर्फ भूत- प्रेत के नाम से डराया और धमकाया जाता हैं. इतना ही नहीं बच्चे भी पूरे गांव में घूमते वक्त इन महिलाओ को देखकर हँसते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.