जानिये आखिर कैसे पहचाने डिप्रेशन के लक्षण! – Depression Symptoms

ट्रेंडिंग

आजकल भाग दौर वाली ज़िन्दगी में लोग अपने सेहत का ख़याल बिलकुल भी नहीं रखते हैं। हर कोई आज अपने शरीर से ज्यादा अपने काम पर ध्यान देने लगा है चाहे वो कोई बच्चा हो या फिर एक बुजुर्ग व्यक्ति। शरीर में हमारे न जाने आजकल कितनी बीमारियां घर बना लेती हैं जिनका अंदाजा हमे पहले से नहीं होता है। कुछ शारीरक होती हैं तो कुछ मानसिक होती हैं।

मानसिक बिमारी किसी भी तरह के तनाव, ज्यादा चिंता, ज्यादा काम करने से हो जाता है। इन्ही मानसिक बीमारियों में एक नाम शामिल होता है डिप्रेशन का। कई लोगों को तो ये भी नहीं पता होता डिप्रेशन आखिर किस चीज़ को कहते हैं? तो आपको बता दें की डिप्रेशन एक ऐसी खतरनाक बिमारी है जो स्वस्थ दिखने वाले आदमी के लिए भी जानलेवा साबित हो जाती है। कई बार हमने ऐसा सुना भी है की कोई हस्ता-खेलता इंसान जिसके पास किसी भी चीज़ की कोई कमी नहीं होती वो अच्चानक अपनी जिंदगी को त्याग देता है ऐसा केवल डिप्रेशन जैसी भयावह बिमारी से जूझ रहा व्यक्ति ही केवल कर सकता है। इस बिमारी में ज्यादा हँसता खेलता इंसान के अंदर भी जिंदगी जीने की इक्छा ख़तम होजाती, उसके सामने आने वाली मुसीबत का वो हल तक नहीं ढूंढ़ पाता है और उसे बस एक ही चीज़ सूझती है जो की होता है ख़ुदकुशी।

अब कई लोगों के मन में ये सवाल भी उठ रहा होगा की आखिरकार इस मानसिक भयावह बिमारी डिप्रेशन की पहचान कैसे होगी ? तो आपको बता दें की इस बिमारी को बाहरी रूप से पहचानना असंभव है। डिप्रेशन से जूझ रहा एक आम इंसान भी दुनिया के सामने हँसता खेलता नज़र आएगा मगर जब वो अकेला होता उसके दिमाग में वो साड़ी बातें चलती रहती जिसे वो दुनिया के किसी व्यक्ति के साथ सांझा नहीं कर पाता है। मगर उनमे ऐसे कई लक्षण दिखने लगते जिससे ये इशारा मिलता है की वो व्यक्ति डिप्रेशन में है। इन संकेतों से आप पहचान लेंगे की आपका कोई करीबी डिप्रेशन में है या नहीं :

– अगर कोई व्यक्ति के अंदर अचानक नकारात्मक सोच आ जाती है, वो हमेशा नकारात्मक बातें करता है जैसे की किसी अपराध के बारे में तो वो व्यक्ति शायद डिप्रेशन में हो सकता है। – समय पर न सोना, ज्यादतर थकान में रहना, किसी काम में मन न लगना ये भी डिप्रेशन का ही एक कारण है। – अच्चानक उस इंसान के भावनाओं में बदलना भी डिप्रेशन में होने का संकेत देता है, जैसे की कोई व्यक्ति अच्चानक छोटी सी बात पे गुस्सा हो गया और अच्चानक कुछ ही क्षण में रोने लग गया, इसका मतलब वो इंसान जरूर किसी मानसिक तनाव से गुज़र रहा होता है।–  इंसान का खुद पर से विश्वास काम हो जाना भी एक डिप्रेशन का लक्षण माना जाता है। – अपने मन पसंदी काम में मन न लगना, अच्चानक दोस्तों और परिवार से दूर होने लगना, किसी से कम बात करना, दुखी दुखी रहना भी डिप्रेशन का ही एक संभव कारण माना जाता है। ऐसे  समय में हमे कोशिश करनी चाहिए उस इंसान की मन के दुख को हम आपस में बाँट लें , उन्हें अकेला न छोड़े।