चीनी मीडिया के संपादक ने कहा – भारत ने हमारे सैनिको को मार डाला, हम युद्ध नहीं चाहते, हमे कमजोर मत समझो

ट्रेंडिंग

शुरुवात चीन ने की और जवाब भारत ने दिया और मुहतोड़ जवाब दिया, जो हुआ उसे कम शब्दों में साफ़ साफ़ समझ लीजिये
गलवान वैली में 15 जून को भारत और चीन की सेनाओं के बीच मीटिंग रखो गयी थी, मीटिंग दोनों सेनाओं के बीच एक स्थान पर रखी गयी थी और तय किया गया था की मीटिंग ख़त्म होने पर दोनों सेनाएं अपने अपने मूल स्थान पर लौट जाएँगी
मीटिंग शुरू हुई और कुछ समय बाद ख़त्म हो गयी पर चीनी सैनिको ने वापस लौटने से इंकार कर दिया, उसके बाद दोनों सेनाओं में संघर्ष हुआ और भारत के 3 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए जिनमे 1 कर्नल और 2 जवान थे
भारतीय सेना ने वहीँ के वहीँ चीन से बदला लिया और 3 के बदले 5 चीनी सैनिको को वहीँ ओन द स्पॉट मार डाला साथ ही साथ 11 चीनी सैनिक बुरी तरह घायल कर दिए गए, चीन में मृतकों की संख्या अभी बढ़ भी सकती है क्यूंकि घायल सैनिक बुरी स्तिथि में थे

इसके बाद चीन की सरकार रो रही है और वहां का मीडिया भी रो रहा है, चीन की सरकार ने अब भारत से शांति की मांग की है, साथ ही साथ चीन के सबसे बड़े अख़बार ग्लोबल टाइम्स के संपादक ने भी रोना शुरू कर दिया, देखिये
Hu Xijin 胡锡进@HuXijin_GT

Based on what I know, Chinese side also suffered casualties in the Galwan Valley physical clash. I want to tell the Indian side, don’t be arrogant and misread China’s restraint as being weak. China doesn’t want to have a clash with India, but we don’t fear it.9,185Twitter Ads info and privacy13.6K people are talking about thisहू क्सिजिन नाम का ये चीनी ग्लोबल टाइम्स का मुख्य संपादक है, ये अख़बार चीनी सरकार द्वारा संचालित है जिसका ये प्रमुख है 
ये कह रहा है की – मुझे जानकारी है की चीन के सैनिक भी मारे गए है, मैं भारतीयों को बता देना चाहता हूँ की चीन भारत से युद्ध नहीं चाहता है, भारत आक्रामक न हो, हम युद्ध नहीं चाहते, चीन को कमजोर मत समझो
पहले यही शख्स भारत को धमकी दे रहा था और अब कह रहा है की भारत आक्रामक न हो और चीन युद्ध नहीं चाहता, चीन की हालत एकदम आवारा कुत्ते की तरह है, आवारा कुत्ता तभी तक भोंखता है जबतक उसे लात नहीं पड़ती, 1 लात पड़ जाये तो काय काय करता हुआ दुम दबाकर भागता है वहीँ स्तिथि अब चीन की है, 3 के बदले भारतीय सेना ने 5 को ढेर कर दिया और 11 को बुरी तरह घायल कर दिया तो चीन के सुर ही बदल गए है