चीन ने नेपाल के रुई गाँव पर कब्ज़ा कर अपने में मिलाया, नेपाल ने कहा – “कोई नहीं साबजी”

ट्रेंडिंग

अगर वास्तविकता की बात करें तो नेपाल अब भारत का शत्रु देश बन चूका है, वहां की जनता का तो पता नहीं पर वहां की सरकार ने भारत को अपना दुश्मन घोषित कर दिया है, और ये ही सच्चाई हैनेपाल में वामपंथी सरकार है और ये सरकार किसी और ने नहीं बल्कि नेपाल की ही जनता ने बनाया है, मौजूदा सरकार के पास नेपाली संसद में बहुत सारे सांसद है जिस से साफ़ है की नेपाल की जनता का इस वामपंथी सरकार को पूरा समर्थन है 


चीन से पैसा खाकर नेपाल चीन का कुत्ता बन चूका है और चीन के इशारे पर भारत पर भोंक रहा है, जबकि दूसरी ओर चीन बड़ी ही चालाकी से नेपाल को खाए जा रहा है जानकारी ये सामने आई है की उत्तरी नेपाल के एक गाँव इसका नाम “रुई” है उसे चीन ने अब अपने इलाके में शामिल कर लिया है, इस पुरे गाँव से सभी नेपालियों को भगा दिया गया है और गाँव अब आधिकारिक रूप से चीन में शामिल हो चूका है, चीन के सैनिक गाँव में पोस्ट बना चुके है और बॉर्डर को आगे बढ़ा दिया गया है रुई के अलावा पड़ोस के ही एक गाँव तेइगा पर भी चीन लगभग कब्ज़ा कर चूका है और कुछ ही समय में उसे भी आधिकारिक रूप से अपने इलाके में शामिल करने वाला है, ये दोनों ही गाँव नेपाल के गोरखा जिले में है कुछ नेपाली ग्रामीण अपने गाँव को छोड़ना नहीं चाहते थे और उन्होंने नेपाली प्रशासन से शिकायत करी की चीन के सैनिक हमे अपने ही गाँव से भगा रहे है, इसपर नेपाली प्रशासन ने नेपालियों पर ही अपनी हेकड़ी दिखाई और ग्रामीणों को भगा दिया, नेपाल की सरकार ने साफ़ कर दिया की चीन 2-4 नेपाली गाँव पर कब्ज़ा कर भी ले तो क्या हुआ, ये बिलकुल सही है जानकर ये भी मान रहे है की कुछ ही समय में ये मुमकिन है की नेपाल का भी वही हाल हो जो तिब्बत का हुआ था, चीन कुछ समय में नेपाल को कर्ज तले इतने दबा देगा की वहां की सरकार उसके ही इशारे पर चलेगी और नेपाल के वामपंथी खुद चीन में शामिल होने की मांग करने लगेंगे और नेपाल चीन का एक राज्य बनकर रह जायगा