चीन की तबाही की हुई शुरुवात : जर्मनी ने चीन को भेजा 125 लाख करोड़ का बिल, भरना होगा चीन को

ट्रेंडिंग

चीन ने अपने वायरस कोरोना से जितनी तबाही दुनिया में मचाई है अब उस से भी ज्यादा तबाही चीन में मचने वाली है, चीन का हश्र बुरा होने जा रहा है और अब उसकी शुरुवात भी हो गयी है
दुनिया चीन के खिलाफ बड़े एक एक्शन की तैयारी कर रही है और दुनिया के बड़े बड़े देश अब चीन के खिलाफ एक्शन की शुरुवात भी कर चुके है, जापान ने अपनी कंपनियों को बाहर करने का आधिकारिक ऐलान कर दिया इसके बाद अब दुनिया की एक और आर्थिक महाशक्ति जर्मनी ने चीन के खिलाफ एक्शन की शुरुवात की है
जर्मनी की सरकार पिछले कई दिनों से कोरोना के खिलाफ लड़ रही है और अब जर्मनी की सरकार ने अपने यहाँ कोरोना फैलने के लिए चीन को दोषी घोषित कर दिया है
जर्मनी की सरकार ने चीन को भारतीय रुपए में 125 लाख करोड़ रुपए का बिल भेजा है, जर्मनी का कहना है की ये पैसा उसके यहाँ कोरोना से लड़ने पर खर्च हुआ है, कोरोना की वजह से उसकी इकॉनमी को भी नुक्सान पहुंचा है और ये रकम 125 लाख करोड़ की है और चीन को ये रकम भरना होगा

जर्मनी ने ये भी कहा है की अगर चीन ने ये बिल नहीं भरा तो वो चीन के खिलाफ तरह तरह के एक्शन लेगा जिसमे संयुक्त राष्ट्र में चीन के खिलाफ प्रस्ताव लाना हो या फिर जर्मनी में चीन की संपत्तियों और कंपनियों को जप्त करना हो, साथ ही साथ जर्मनी यूरोपियन यूनियन का सबसे बड़ा मेम्बर है और जर्मनी यहाँ चीन के खिलाफ प्रस्ताव लाकर चीन पर व्यापार से लेकर कई तरह के प्रतिबन्ध लगवा सकता है जिस से चीन की इकॉनमी 50% तक ठप्प हो जाएगी क्यूंकि उसका 50% व्यापार यूरोप में ही है 
जर्मनी एक ताकतवर देश है और उसके चीन के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी है, जर्मन सरकार चाहती है की उसे कोरोना के कारण जो भी नुक्सान हुआ वो चीन के कारण हुआ है ऐसे में चीन को बिल भरना होगा, अन्यथा चीन के खिलाफ आर्थिक और राजनितिक कार्यवाही शुरू कर दी जाएगी 
इस से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ने भी साफ़ कर दिया है की वो जांच कर रहे है और अगर ये बात सामने आती है की चीन ने जान बुझकर वायरस को दुनिया में फैलाया है तो चीन पर गंभीर एक्शन लिए जायेंगे जिसमे सैन्य एक्शन भी शामिल है