जनसंख्या नियंत्रण कानून: क्या सच में जरूरी है, दें अपनी राय ?’

ट्रेंडिंग

न्यूज डेस्क: भारत की जनसंख्या दिन प्रतिदिन तेजी के साथ बढ़ रही हैं। जिसके कारण देश में बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या बनती जा रही हैं। सबसे बड़ा सवाल यह है की क्या देश में जनसंख्या नियंत्रण कानून ज़रूरी हैं। आज इसी विषय में चर्चा करेंगे विस्तार से। 

भारत में जनसंख्या कानून की चर्चा कई सालों से चलती आ रही हैं। कुछ लोग इस कानून का विरोध करते हैं तो कुछ लोग इसके समर्थन में भी खड़े नजर आते हैं। पिछले साल के स्वतंत्रता दिवस के भाषण में “जनसंख्या विस्फोट” शब्द का इस्तेमाल कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बहस को वापस सुर्खियों में ला दिया। देश के चर्चा होने लगी की जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू होना चाहिए। 
आपको बता दें की साल 2018 में लगभग 125 सांसदों ने राष्ट्रपति से भारत में दो बच्चों की नीति लागू करने का आग्रह किया था। लेकिन इसपर आगे कोई चर्चा नहीं हो पाई और भारत में दो बच्चों की नीति लागू नहीं हुई। साल 2016 में बीजेपी सांसद प्रह्लाद सिंह पटेल ने भी जनसंख्या नियंत्रण पर एक निजी सदस्य बिल पेश किया था हालांकि यह अधिकतर निजी विधेयकों की तरह मतदान के चरण तक नहीं पहुंच सका। 
इसके बाद 2015 में गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ ने एक ऑनलाइन पोल आयोजित कर पूछा था कि क्या मोदी सरकार को जनसंख्या नियंत्रण के लिए कोई नीति बनानी चाहिए। जिसमे काफी लोगों ने कहा था की भारत में जनसंख्या नियंत्रण कानून बनना चाहिए।