“दिल्ली में सरेंडर करने की फिराक मे विकास दूबे, यूपी पुलिस ने बिछाया जाल

ट्रेंडिंग

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार चल रहे यूपी के मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे की पकड़ के लिए यूपी पुलिस ने पूरी ताकत झोंक दी है. पिछले तीन दिनों से कानपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में ताबड़तोड़ छापेमारी जारी है लेकिन विकास दुबे का अभी तक कोई सुराग नहीं लग सका है. इस बीच खबर आ रही है कि पुलिस को गैंगस्टर विकास दुबे के दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में छिपे होने की संभावना है. वहीं सूत्रों के अनुसार दिल्ली में विकास दुबे आत्मसमर्पण भी कर सकता है. इसी सूचना पर यूपी पुलिस की 2 टीमें दिल्ली में तैनात कर दी गई हैं. उन्होंने कोर्ट सहित तमाम संभावित जगहों पर अपना जाल बिछा दिया है. वहीं दिल्ली स्थित कोर्ट के आसपास सतर्कता बढ़ा दी गई है.

उधर, पता चला है कि विकास दुबे की गिरफ्तारी को लेकर यूपी पुलिस के आला अफसर लगातार दिल्ली पुलिस से संपर्क बनाए हुए हैं. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, गैंगस्टर विकास दुबे को डर है कि यूपी में उसका एनकाउंटर हो सकता है या उसके साथ पुलिस की टीम कुछ गलत कर सकती है. इसी डर के चलते वह दिल्ली स्थित किसी अदालत में आत्मसमर्पण कर सकता है.

दिल्ली पुलिस से संपर्क में यूपी पुलिस

यूपी के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने भी अपना नाम न बताने की शर्त पर इस मामले में जानकारी दी है कि वह दिल्ली पुलिस के संपर्क में लगातार बने हुए हैं. अगर दिल्ली एनसीआर में उससे जुड़ी हुई कोई जानकारी मिलती है तो यूपी पुलिस की टीम दिल्ली पुलिस की मदद से उसे पकड़ने का प्रयास करेगी. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच की टीम के साथ लगातार यूपी पुलिस की टीम संपर्क में बनी हुई है. दिल्ली पुलिस की टीम भी यह प्रयास कर रही है कि अगर विकास दुबे दिल्ली में कहीं छुपा है तो उसे गिरफ्तार करके तत्काल यूपी पुलिस को सौंप दे.

बड़े वकीलों से संपर्क साधने की कोशिश

यूपी पुलिस के विशेष सूत्रों के मुताबिक, विकास दुबे के करीबी 3 से 4 लोग दिल्ली पहुंच चुके हैं. वह कुछ बड़े वकीलों से संपर्क साधने की जुगत में हैं. उसकी योजना है कि विकास दुबे को राजधानी दिल्ली में सरेंडर करवाकर उसको यूपी पुलिस के चंगुल से थोड़े वक्त के लिए बचाया जा सके. इस ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए विकास दुबे के करीबी सहयोगी इस मसले से जुड़े तमाम मुद्दों को काफी गुप्त तरीके से अंजाम देने की फिराक में हैं.

माना जा रहा है कि विकास के गुर्गे चाहते हैं कि जानकारी लीक न होने पाए और आसानी से दिल्ली के किसी कोर्ट में उसका सरेंडर करवाया जा सके. वहीं, यूपी पुलिस की टीम भी लगातार इस मामले पर कार्रवाई करने के लिए दिल्ली पुलिस के कुछ अधिकारियों के संपर्क में हैं.