आत्मनिर्भर भारत- DRDO ने विकसित किया पी-7 हैवी ड्रॉप सिस्टम, 7 टन भार को विमान से गिरा देगा

ट्रेंडिंग

New Delhi : रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने पी-7 हैवी ड्रॉप सिस्टम विकसित किया है। इसके जरिए 7-टन वजन तक के सैन्य उपकरणों को आईएल 76 विमान से नीचे गिराया जा सकेगा। डीआरडीओ ने बताया – यह प्रणाली पूरी तरह से स्वदेशी है और एलएंडटी द्वारा निर्मित की जा रही है जो ऑर्डनेंस फैक्ट्री में पैराशूट और प्लेटफॉर्म सिस्टम बनाती है।

दूसरी तरफ डीआरडीओ ने क्वारंटाइन के दौरान लोगों की निगरानी के लिए एक सॉफ्टवेयर विकसित किया है। इसके तहत क्वारंटाइन या आइसोलेशन में रह रहे लोगों की ट्रैकिंग की जाएगी। यह सॉफ्टवेयर नियमों का उल्लंघन करने पर अधिकारियों को अलर्ट भेजेगा। ऐप को मरीजों के स्मार्टफोन पर इंस्टॉल किया जाएगा, जो हर 10 मिनट में कोविड-19 सर्वर पर एक सुरक्षित संदेश भेजेगा।
इधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 11 बजे विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर एक वीडियो संबोधन दिया। पीएम मोदी ने कहा कि आज के युवा की सबसे बड़ी ताकत उसकी स्किल ही है। इस दौरान पीएम मोदी ने युवाओं के लिए एक नया मंत्र भी दिया जो उन्हें संकट के समय में प्रासंगिक रहने और उन्हें सशक्त बनाने में मदद करेगा। उन्होंने कहा कि यह दिन आपके कौशल के लिए समर्पित है।

पीएम मोदी ने कहा कि सहस्राब्दी युवाओं की सबसे बड़ी ताकत नए कौशल प्राप्त करना है। कोविड -19 ने नौकरियों की प्रकृति को बदल दिया है, और फिर नई तकनीक है जिसने हमारे जीवन को भी प्रभावित किया है। हमारे युवाओं को नए कौशल अपनाने होंगे।