बिग ब्रेकिंग:विकास दुबे का साथी जय वाजपेई खोलेगा काली कमाई के राज! आया कानपुर पुलिस की गिरफ्त में..

ट्रेंडिंग

जय वाजपेयी और उसका साथी प्रशांत गिरफ्तार
विकास दुबे और उसके गैंग की मदद का है आरोप
जय वाजपेयी की संपत्ति की जांच कर रही है ईडी
कानपुर शूटआउट केस के मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे के करीबी जयकांत वाजपेयी और उसके साथी प्रशांत शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोप है कि जयकांत वाजपेयी उर्फ जय वाजपेयी ही विकास दुबे के पैसों का हिसाब रखता था. विकास दुबे की काली कमाई के निवेश का पूरा जिम्मा जय वाजपेयी पर ही था.

जय वाजपेयी की गिरफ्तारी पर कानपुर पुलिस का कहना है कि 2-3 जुलाई की रात आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में जय वाजपेयी और उसका साथी प्रशांत शुक्ला भी शामिल था. इन दोनों ने विकास दुबे की मदद की थी. 1 जुलाई को विकास दुबे ने जय वाजपेयी को फोन किया था और 2 जुलाई को जय और प्रशांत बिकरू गांव पहुंचे थे.

कानपुर पुलिस के मुताबिक, 2 जुलाई को जय वाजपेयी ने विकास दुबे को 2 लाख रुपये और 25 रिवॉल्वर कारतूस दिए थे. आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद विकास दुबे और उसके गैंग को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए तीन लग्जरी गाड़ियों की व्यवस्था की गई थी, लेकिन पुलिस की सक्रियता से वह अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाए.

कौन है जय वाजपेयी

बताया जाता है कि आठ साल पहले जय वाजपेयी एक प्रिंटिंग प्रेस में 4000 की तनख्वाह पर नौकरी करता था. प्रिंटिंग प्रेस में नौकरी करने के दौरान ही वह विकास दुबे के संपर्क में आया. इसके बाद विकास के साथ मिलकर जय वाजपेयी विवादित जमीनों की खरीद-फरोख्त करने लगा.

लोगों का कहना है कि विकास दुबे, जय वाजपेयी के कहने पर बड़े निवेश करने लगा. इसमें जमीन में पैसे लगाने से लेकर ब्याज पर पैसे देने तक के कारोबार शामिल थे. विकास दुबे की काली कमाई का प्रबंधन करते-करते जय भी अकूत संपत्ति का मालिक बन गया. पुलिस का कहना है कि जय वाजपेयी के पास लखनऊ-कानपुर में अकूत संपत्ति है.