दिल्ली के साकेत कोर्ट में 121 जमातियों ने कबूला अपना गुनाह,लेकिन सजा सुन आपकी हंसी छूट जाएगी…

ट्रेंडिंग

121 foreign jamaatis confessed in Saket court: आपको मार्च का महीना तो याद ही होगा! महीने के आखिरी में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज विवादों में आ गया था! वजह बनी थी दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से निकलने वाले जमाती! जिनमें बड़ी संख्या में विदेशी जमाती भी थे! बता दें कि उस समय अलग अलग राज्य में कोरोना संक्रमित मरीजों का मरकज से कनेक्शन सामने आने के बाद मरकज से करीब 2000 से अधिक जमाती को निकाला गया था!

आपको यह भी याद होगा कि जब यह जमाती मरकत से निकले थे तो अचानक से कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या में बड़ी मात्रा में इजाफा हो गया था!

पब्लिक को जमा करने के रोक के बावजूद मरकज में हजारों जमाती के इकट्ठा होने के मामले में कई विदेशी जमाती को गिरफ्तार भी कर लिया गया था! जो विदेश से जमाती आए थे उनके ऊपर वीजा नियमों और महामारी एक्ट के उल्लंघन का आरोप लगाया गया था! इसी सिलसिले में सोमवार को 132 विदेशी जमाती को साकेत कोर्ट में पेश किया गया जिनमें से 121 जमाती ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है!

जिन विदेशियों ने गुनाह कबूल किया है वह 42 किरकिस्तान और 79 बांग्लादेश के जमाती है! इन सभी को वीजा नियमों और महामारी एक्ट के उल्लंघन के आरोप से राहत दे दी गई है! आज भी सुनवाई के दौरान साकेत कोर्ट ने इन जमाती पर 5-5 हजार का जुर्माना लगाया और टिल राइजिंग कोर्ट यानी पूरे दिन कोर्ट रूम में खड़े रहने की सजा सुनाई!