अभी-अभीः बेकाबू कोरोना के बीच देश में फिर लगेगा लाॅकडाउन? PM मोदी एक बार फिर…

ट्रेंडिंग

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बीच, 27 जुलाई की तारीख अहम हो सकती है। उस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करने जा रहे हैं। इस बैठक में तय होगा कि देश में अनलॉक 3.0 लागू होगा या कोरोना वायरस को रोकने के लिए पूरे देश में एक बार फिर लॉकडाउन लगा दिया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 27 जुलाई को होने वाली इस बैठक में पीएम मोदी इस पर चर्चा करेंगे कि कोरोना वायरस की चैन किस तरह तोड़ी जाए।

यह पहला मौका नहीं है जब पीएम मोदी कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। इस साल अप्रैल महीने से अब तक पीएम मोदी कई बार ऐसी बैठकें कर चुके हैं। पिछले हफ्ते ही उन्होंने बिहार, असम, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्रियों के साथ फोन पर चर्चा की थी और हालात का जायजा लिया था।

इस बीच, केंद्र सरकार ने तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल और असम की सरकारें से कहा है कि वे अपने यहां कोरोना संक्रमण के टेस्ट में तेजी लाएं। इस राज्यों में तेजी से कोरोना संक्रमण के केस सामने आ रहे हैं, जिनको लेकर सरकार चिंतित है। इस बारे में मुख्य सचिवों और स्वास्थ्य सचिवों के स्तर पर हाईलेवल मीटिंग हो चुकी है।

कोरोना इलाज के लिए 21 दवाओं की पहचान

इस बीच, कोरोना वायरस का इलाज खोजने में जुटे शोधकर्ताओं को मौजूदा दवाओं में से ऐसी 21 की पहचान की है, जिनसे इस घातक वायरस का इलाज किया जा सकता है। ये दवाएं वायरस की प्रतिकृति बनने पर रोक लगाने में सक्षम पाई गई हैं। यह खतरनाक वायरस अपनी इसी क्षमता के जरिये कोशिकाओं को संक्रमित करता है।

नेचर पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, इन 21 दवाओं में से चार को रेमडेसिविर के साथ असरदार पाया गया है। रेमडेसिविर एंटीवायरल दवा है, जिसके उपयोग से इस समय कोरोना पीड़ितों का इलाज किया जा रहा है।

उप्र में कोरोना मरीज बढ़ने के साथ अस्पतालों में चरमराई व्यवस्था

उप्र में कारोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच अस्पतालों में व्यवस्था दुरुस्त होने के दावों की पोल खुल रही है। जुलाई में वायरस ने जोर पकड़ा तो अस्पतालों में अव्यवस्थाओं को लेकर शिकायतों का अंबार लग गया। स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश भर में कोविड-19 के सरकारी व निजी अस्पतालों में डेढ़ लाख बेड की व्यवस्था का दावा किया है, लेकिन अस्पतालों में बेड फुल होने के कारण मरीजों को भर्ती होने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। लखनऊ सहित कई जिलों में मरीजों को भर्ती होने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। वहीं, पूर्वी उप्र के जिलों में आइसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीज घटिया भोजन दिए जाने की शिकायत कर रहे हैं। शासन स्तर से लगातार निगरानी के बावजूद सरकारी सिस्टम का संक्रमण खत्म नहीं हुआ, जिससे व्यवस्थाओं का दम फूल रहा है।

कोरोना वायरस के खिलाफ जारी लड़ाई के बीच फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने उन खाद्यपदार्थों की लिस्ट जारी की है, जिनके सेवन से कोरोना वायरस से लड़ा जा सकता है। FSSAI के अनुसार, विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों को खाने से इम्युनिटी यानी बीमारियों से लड़ने की ताकत बढ़ती है। FSSAI ने अपनी लिस्ट में आंवला, संतरा, पपीता, शिमला मिर्च, अमरूद और नींबू को शामिल किया है। FSSAI ने अपनी रिपोर्ट में इस प्रत्येक खाद्यपदार्थ की खूबियां गिनाई हैं।