दंगाइयों के साथ खड़े हो गए केजरीवाल, बनवाई झूठी रिपोर्ट, ताकि निर्दोष साबित हो जाये सारे दंगाई

ट्रेंडिंग

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उनकी पूरी सरकार दिल्ली के दंगाइयों के समर्थन में खड़ी हो गयी है, पिछले साल के अंत से ही दिल्ली में दंगों की प्लानिंग की गयी, ये प्लानिंग मजहबी उन्मादियों ने की, इन उन्मादियों में आम आदमी पार्टी के नेता ताहिर हुसैन और कई अन्य भी शामिल थे फ़रवरी के महीने में इन मजहबी उन्मादियों ने दिल्ली के मुस्लिम बहुल इलाकों में हिन्दुओ को निशाना बनाना शुरू कर दिया, दिल्ली पुलिस और IB के लोगो को भी हिन्दू होने के कारण मौत के घाट उतार दिया गया दंगों को लेकर शाहरुख़ पठान नाम के एक मजहबी उन्मादी को गिरफ्तार किया गया है जो की पुलिस पर पिस्तौल तान रहा था, इसके अलावा आम आदमी पार्टी का नेता ताहिर हुसैन भी गिरफ्त में है, इसके अलावा भी ढेरों दंगाइयों को पुलिस ने गिरफ्तार किया हुआ है अब इन दंगाइयों को निर्दोष साबित करने के लिए अरविन्द केजरीवाल ने एक रिपोर्ट बनवाई है, ये रिपोर्ट केजरीवाल ने दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग से बनवाई है, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग केजरीवाल के अंडर ही काम करता है और केजरीवाल ने ज़फरुल इस्लाम नाम के शख्स को इसका अध्यक्ष बनाया हुआ है 

ये वही ज़फरुल इस्लाम है जो कुछ दिनों पहले धमकी दे रहा था की अरबी मुसलमानों की मदद से ये भारत में ज़लज़ला ले आयेगाअब ज़फरुल इस्लाम ने दिल्ली दंगों को लेकर केजरीवाल के कहने पर एक रिपोर्ट बनाई है जिसमे तमाम दंगाइयों को क्लीन चिट दे दिया गया है, दंगाइयों को विक्टिम बताया गया है जो शाहरुख़ पठान पुलिस वालो पर बन्दुक तान रहा था उसे रिपोर्ट में निर्दोष बच्चा बताया गया है और कहा गया है की उसपर हमला किया गया था इसी कारण उसने बन्दुक उठा ली, उसकी कोई गलती नहीं है इसके अलावा रिपोर्ट में स्थानीय मजहबी उन्मादियों को डरा हुआ और निर्दोष बताया गया है और कहा गया है की जिनको पुलिस ने पकड़ा है वो सब निर्दोष है और असल में वो सब विक्टिम है, उन्होंने पत्थर और हथियार अपनी आत्मरक्षा में उठाया, उन्होंने कोई दंगा नहीं किया और उन्हें बेवजह ही गिरफ्तार कर लिया गया है 

रिपोर्ट में केजरीवाल के अल्पसंख्यक आयोग ने जामिया, JNU, शाहीनबाग़ के सारे मजहबी उन्मादियों को बेकसूर बताया है और कहा है की ये सब विक्टिम है और जो कुछ हुआ सब आत्मरक्षा में हुआ
केजरीवाल सरकार ने सभी मजहबी उन्मादियों को क्लीन चिट दे दी है और अब इस रिपोर्ट को कोर्ट में भी पेश करने की तैयारी है ताकि सभी मजहबी उन्मादियों को जेलों से रिहा करवाया जा सके