अभी अभी: सामने आई सुशांत सिंह की डायरी, खुले वो राज, जिसे जानना चाहता है देश

ट्रेंडिंग

नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत की डायरी के 15 पन्ने उनकी मौत के 58 दिन बाद सामने आए। इन पन्नों में उनके सपने थे, खुद को तैयार करने की ललक थी और कुछ पीड़ा भी थी। इनमें बॉलीवुड से हॉलीवुड तक की फ्यूचर की प्लानिंग थीं। बहन और गर्लफ्रेंड से रिश्तों की कहानी थी।

सुशांत की डायरी में 2020 की प्लानिंग में सबसे अहम था उनका वो पन्ना, जिसमें सुशान्त को एहसास होने लगा था कि परिवार पीछे छूट रहा है। परिवार से दूरियां बढ़ रही हैं। लिहाजा उन्होंने प्लान किया और लिखा भी कि, वह 2020 की अपनी प्लानिंग में परिवार के साथ रहेंगे। कोई भी उनसे न छूटने पाए इसका ध्यान रखेंगे। पब्लिक लाइफ में सेल्फलेस, केयरिंग और रिस्पांसिबल बनेंगे।

इसी डायरी के पन्नों की 5 बड़ी बातें
सूत्रों के मुताबिक ये 15 पन्ने पुलिस के जरिये मीडिया के हाथ लगे हैं। कहा जा रहा है कि इन पन्नों के जरिये सुशांत की प्लानिंग सामने लाई जा रही है।
यह एक तरह से सुशांत के परिवार के उन आरोपों का जवाब है जिसमें यह कहा जा रहा है कि सुशांत को रिया ने बंधक बना लिया था और शिकायत के बाद भी पुलिस ने कुछ नहीं किया।
इन पन्नों में बहन प्रियंका का नाम आने से यह भी मैसेज जा रहा है कि सुशांत परिवार के लिए फिक्रमंद थे और उनके साथ मिलकर कोई बड़ा काम करना चाहते थे।
पन्नों में सुशांत के इंटेलेक्चुअल लेवल और उनकी मैनेजमेंट स्किल की भी झलक मिलती है। उनके शब्दों में स्पष्टता और दूर की सोच लगती है।
इन पन्नों के सामने आने से रिया को भी थोड़ी सी मदद मिल सकती है क्योंकि उन पर सुशांत को मजबूर करने, उनका पैसा हड़पने और परिवार से काटने का आरोप है।

नीचे पढि़ए 15 पन्नों पर लिखी कहानी, हर पन्ने की अपनी कहानी-

1. सुशांत ने अपने बारे में लिखा
डायरी के इस पन्ने में हेडिंग में “I” यानी खुद के ऊपर क्या-क्या करना है इसके 5 पाइंट हैं। 1. अपनी एक्टिंग स्किल में बहुत बड़ा अपग्रेड करना और लैंग्वेज-कल्चर में मास्टरी हासिल करना है। 2. हॉलीवुड में किसी बड़ी एजेंसी के साथ एसोसिएशन बनाना 3. क्रिएटिव फील्ड के टॉप प्लेयर्स के साथ रिश्ते बनाना। 4. सिनेमा, एजुकेशन और एनवायरमेंट के लिए अपग्रेड करना हैं। 5. इस पाइंट में खुद के साथ कोर टीम की हर हफ्ते मीटिंग की बात है।

2. 2020 में एंटरटेनमेंट वर्ल्ड में सुशांत की योजना – 1
डायरी के इस पन्ने में प्लानिंग के लिए उन्होंने कॉपी को घुमाकर एक फ्लो चार्ट बनाया है। इसमें सबसे ऊपर असेट क्रिएशन में 50 करोड़ लिखे हैं। इसके साथ ही अपने सभी खर्च और फिक्सड इनकम के बीच बराबरी का निशान बनाया है। इसके साथ बीच में कोर टीम और उसका विजन चार पाइंट में लिखा है। साथ में कोर टीम के चार बड़े स्कोप एरिया की बात भी चार बॉक्स बनाकर लिखी है। इनमें रेपुटेशन मैनेजमेंट+ ब्रांड बिल्डिंग, क्रिएटिव इनकम के मौके, लीगल आसपेक्ट्स + मनी मैनेजमेंट और प्लानिंग+स्ट्रेटजी जैसे शब्द लिखे हैं। विजन में सबसे बड़ी बात 2020 में हॉलीवुड में पूरी तरह से सक्रिय होना, टॉप 50 थिंकर्स / प्लानर टीम, एजूकेशन- एनवायरमेंट सिनेमा और फ्री टाइम लिखा है।

3. 2020 में एंटरटेनमेंट वर्ल्ड में सुशांत की योजना – 2
सुशांत की डायरी के इस पन्ने में उन्होंने एंटरटेनमेंट हेडिंग से तीन प्लानिंग की थी।पहली प्लानिंग – 2020 में हॉलीवुड और बॉलीवुड। दूसरी प्लानिंग– पहले प्रॉडक्शन हॉउस लिखा और काट दिया, फिर क्रिएटिव कंटेंट लिखा। इसे आगे दो हिस्सों – आइडिया डेवलपमेंट और प्रोडक्शन हॉउस में बांटा। आइडिया डेवलपमेंट में टॉप राइटर्स को शामिल किया और प्रोडक्शन हॉउस में एक्सपीरियंस के बारे में लिखा। इसके नीचे टीम स्ट्रक्चर भी बनाया है। इसमें राइटर और स्क्रीनिंग की योजना है। तीसरी प्लानिंग- ये सबसे महत्वपूर्ण है और इसमें इमरजेंट टेक्नोलॉजी का स्टार्टअप शुरू करनी योजना है।

4. सुशांत ने लिखा आगे क्या कदम उठाएंगे
डायरी के इस पन्ने में Next Initiate Steps के बारे में लिखा है। इसमें तीर के तीन निशान हैं। पहले निशान के आगे लिखा है – सोचना और नाम, स्टेक होल्डर, कैपिटल, आईपी प्रोटेक्शन और लीगल टीम के बारे में फैसला लेना है। दूसरा एक्शन पाइंट – बेस्ट फॉरेन फिल्म्स और राइटर्स की पहचान करना है। तीसरे एक्शन पाइंट में बहन प्रियंका के नाम के साथ मेघा (लीगल) और पीडी + श्रद्धा (एक्सक्लूसिव) लिखा है।

5. सुशांत ने यहां अपनी भावी क्रिएटिव टीम के बारे में लिखा
सुशांत की डायरी के इस पन्ने में उनकी क्रिएटिविटी की प्लानिंग नजर आती है। इसे उन्होंने पांच स्टेप्स में बांटा था। पहली स्टेप में कंपनी बनाना, दूसरी स्टेप में खुद को एक्सप्लोर करने की बात लिखी है। साथ में पीडी और श्रद्धा का नाम भी है। स्टेप 3 को 3 हिस्सों में बांटा था – पहला- स्क्रीनिंग के लिए आइडिया पर फोकस करना, दूसरा- उसे एक्जीक्यूट करना और तीसरा- लोगों से मीटिंग करने से जुड़ा था। चौथे स्टेप में – कंटेंट जनरेशन लिखा था, लेकिन फिर उसे काट दिया और इस स्टेप में इंटलेक्चुअल प्रॉपर्टी यानी IP को अपनी चिंता बताते हुए दो सवालिया निशान लगाए। इस पन्ने की आखिरी स्टेप में, ऊपर से काटी कंटेंट जनरेशन की बात लिखी है।

6. सुशांत की प्लानिंग को बताता पन्ना
सुशांत की डायरी के इस पन्ने को उन्होंने अपने क्रिएटिव काम की चौथी स्टेप को विस्तार से फिर चार स्टेप्स में बांटकर बताया है।स्टेप 1: इसमें 3 पाइंट हैं और उनमें किसी प्रियंका और मेघा मेहता का नाम है। तीन हफ्ते के टाइम की बात लिखी है। इसमें उनके साथ काम करने वाले कंट्रीब्यूटर के नाम, स्टेकहोल्डर, कैपिटल और आईपी प्रोटेक्शन की बात है। स्टेप 2 : इसमें तीर के तीन निशान बनाए हैं । पहले निशान के साथ दुनिया के सबसे नामी राइटर्स की प्रोजेक्ट बेस के लिए पहचान करने की बात है। दूसरे के साथ सही टैलेंट की पहचान औ तीसरे में प्रियंका के नाम के आगे पीडी +श्रद्धा के नाम के साथ एक्सक्लूसिवटी शब्द का इस्तेमाल किया है।

स्टेप 3 – इसमें बताया है कि परमानेंट मेंबर एक स्क्रीनिंग प्रोसेस लेकर आएंगे। इसके बाद उन्हें एक्जीक्यूट करेंगे और आखिर में लोगों से व्यक्तिगत तौर पर मिलकर टीम बनाने की बात है। स्टेप 4 – इसमें कंटेंट जनरेशन शब्द लिखकर उसके आगे दो !! चिन्ह लगाए हैं।
8. सुशांत को परेशान कर रहे आरोपों पर उनकी पीड़ा और रिया का जिक्र

सुशांत ने इस पन्ने में अपनी जरूरतों को लाल स्याही से N कोडनेम से लिखा है। मैं सोचना चाहता हूं, अपने बारे में, परिवार के बारे में। किसी को खोना नहीं चाहता। मैं प्रोटेक्टिव, केयरिंग और समझदार होना चाहता हूं। मुक्कु मेरी जरूरतों को पूरा करती है। अपनी पब्लिक परसोना या सामाजिक छवि को P से इंडिकेट किया है। नीचे खुद को स्वार्थरहित, केयरिंग और त्याग करने वाला बताया है। इसके बाद सुशांत ने इस पन्ने और इसके बाद के पन्ने में ट्रैजिक फ्लॉ यानी अपने उन 3 कलंकों के बारे लिखा है जो उन्हें बहुत परेशान कर रहे थे। P और N को डिकोड करते हुए सुशांत ने लिखा है। सामजिक छवि मेरी निजी जरूरतों पर हावी हो रही है। बिंद्रा को मुझे याद दिलाना चाहिए कि मेरा मुक्कु के साथ रिश्ता बहुत मतलबी है जो कइयों के लिए बड़ी परेशानी बन सकता है। इसलिए मुझे उसे अवॉइड करना चाहिए/ कर ही देना चाहिए।

9. यहां परेशान सुशांत ने तीन में से दो कलंक का यहां जिक्र गणितीय अंदाज में किया है
ऊपर के पन्ने के साथ जुड़े इस पन्ने की कहानी हैरान करने वाली है। इसमें बुक मार्क लगे पेज पर आधे हिस्से में बड़े रहस्यमयी ढंग से खुद को दोषी ठहराने की बात और #MeToo के बारे में लिखा है। इसमें उन्होंने ट्रैजिक फ्ला यानी दो कलंकों के बारे में लाल स्याही से जानबूझकर लिखा है। इसमें उन्होंने दो नामों को N और P कोड से लिखा है।N और P को भी लाल स्याही से लिखा और गोले में घेरकर दोनों अक्षरों के बीच ग्रेटर देन का चिन्ह बनाया और नीचे नीली स्याही से डिटेल में लिखा – मैं हार मान रहा हूं, मुक्कू को ऐसे पीड़ा भोगते नहीं देख सकता (Me Too)तीर के निशान के साथ लाल स्याही से ट्रैजिक फ्ला (3) लिखा है और यहां P को N से बड़ा बताया है। नीचे नीली स्याही से डिटेल में लिखा – जब मैं अपने बारे में और अपनी जरूरतों के बारे में नहीं सोचता हूं।

10. कैमरे के सामने एक्टिंग की तैयारी के नोट्स -1
इस पन्ने का हेडिंग दिया है – कैमरे के लिए एक्टिंग की तैयारी – एक स्क्रिप्ट को पढ़ना और दोबारा पढ़ना। 1. किसी मटेरियल के बारे में समझ को बढ़ाना सबसे जरूरी है। 2. कोई किरदार पूरी कहानी से किस तरह से जुड़ता है। – अगर आप सावधानीपूर्वक ये देखते हैं कि स्क्रिप्ट में दूसरा व्यक्ति आपके बारे में क्या कहता है, आपको अपने बारे में बहुत अच्छी बात जान जाएंगे। इसके जरिए आप ये जान पाएंगे कि आप दुनिया को किस तरह प्रभावित करेंगे और आप उन लोगों से अपने रिश्तों को भी जान सकेंगे। – जब आप उस बाहरी दुनिया को जानने की कोशिश नहीं करेंगे, जो आप देखते हैं और अपने शब्दों के बारे में जानेंगे तो आप खुद को जानना शुरू कर देंगे। – आप जो करते हैं, वह उतना ही अहम है, जो आप कहते हैं। – क्यों नहीं ? कथनी और करनी ही इसे अदृश्य बनाते हैं।

11. कैमरे के सामने एक्टिंग की तैयारी के नोट्स – 2
ये पन्ना ऊपर के पन्ने का ही हिस्सा है । इसमें सुशांत ने लिखा, स्क्रिप्ट के स्ट्रक्चरल पैटर्न को खोजो। क्या मटेरियल इस्तेमाल किया जाएगा। सीन को एक्साइटिंग बनाने के लिए जरूरी चीजों को खोजकर उन्हें अपने परफॉर्मेंस के जरिए सामने ला सकें। अपनी तैयारी में, शुरुआत से ही मटेरियल के आखिर में प्ले करने के लोभ को दूर रखो। एक्टर्स चाहते हैं कि कि वे रोल के हर फैक्ट को एक ही टाइम पर प्ले करें। ताकि वह और गहराई ला सकें, यह गलत है। उस चीज के साथ जुड़ें जो किसी एक पर्टिकुलर मोमेंट में आपको आगे ले जाता है।

12. कैमरे के सामने एक्टिंग की तैयारी के नोट्स – 3
ये पन्ना भी ऊपर की तैयारी का है – यहां सुशांत ने सीन के बारे में लिखा है कि, आप इमोशनली कहां हैं, सीन की शुरुआत में। इमोशन की लय क्या है। बहुत तेज, धीमी या सामान्य। बाहरी तौर पर – आपकी बाधाएं क्या हैं। कौन और क्या आपके रास्ते में खड़ा है। दूसरे इंसान की लाइनें। आप जिन बाधाओं का सामना कर रहे हैं, उसके लिए खुद को संवेदनशील बनाएंगे। जो कहा नहीं जा रहा है उसे समझें। अंदरुनी तौर पर- क्या आइडिया, कमजोरियां आपकी इन जरूरतों को पूरा नहीं होने देतीं और इसे मुश्किल बनाती हैं।

13. अपनी स्क्रिप्ट तैयार करने पर सुशांत के नोट्स – 1
डायरी के इस नए पन्ने का हेडिंग है – अपनी स्क्रिप्ट मार्क करना। पहला पॉइंट- आखिरी लाइन। यह महत्वपूर्ण है कि जितना हो सके आप अपने काम को हर पल क्लियर रखें। काम किसी दिए गए मोमेंट में सिम्पल होना चाहिए। सिम्पल मोमेंट्स यानी इसे हासिल करने का सबसे तेज रास्ता है सीन की आखिरी लाइन को खोजो। यानी सीन किस बारे में है, आप जो चाहते हैं वह उसे पूरा करता है या नहीं। यही वह बात है जो सीन को आगे ले जाती है। अगर तैयारी अच्छी है तो इतना काम आपके नाम पर काफी है।

14. अपनी स्क्रिप्ट तैयार करने पर सुशांत के नोट्स – 2
एक्टिंग की स्किल सुधारने से जुड़ी तैयारी के इस पन्ने में सुशांत लिखते हैं कि आपको ऐसा तब तक करते रहना चाहिए जब तक कि कोई अन्य प्रेरणा आपको किसी ओर बॉटम लाइन (B.L) तक न पहुंचा दे।- किसी भी कैरेक्टर के सभी किरदारों को हमेशा एक सा मत प्ले करो। एक बार में अपने एक रोल पर मेहनत करो और उसे बनाओ (सिंपल) ।- आपका काम एकदम स्पष्ट, मजबूत और डायनेमिक होगा।अब किसी सीन की बॉटम लाइन की बात करते हैं। तो इसमें तय करने की सबसे आसान शर्त यह होगी कि वह कौन सी बड़ी ताकत है जो आपको किसी सीन में आगे ले जाती है।आप जिंदगी के किसी एक मुकाम पर क्या हासिल करना जरूरी समझते हैं।खुद को ओवर-इंटेलिक्चुलाइज यानी अति-बुद्धिमता से भरा मत मानो। बस, अपनी बॉटम लाइन को प्ले करो।- अपनी लाइनों को याद मत करो।- अपने अगले रिस्पांस से खुद के लिए ट्रिगर यानी कोई प्रेरणा हासिल करो। -अब थोड़ा संभल जाओ। ट्रिगर / स्टिमुलस यानी कोई प्रेरणा – एक बार में आने वाली कोई डायनमिक प्रतिक्रिया।

15. अपनी स्क्रिप्ट तैयार करने पर सुशांत के नोट्स – 3
इस पन्ने में एक बड़ी पॉजिटिव फिलासफी लिखी है कि, आप कैसे दर्शकों के अविश्वास को विश्वास में बदल सकते हैं। सुशांत ने लिखा है कि अगर आपको उनके भरोसे को जीतना है तो आपको पहले यह करना चाहिए, लेकिन कैसे ? उन चीजों को ढूंढें, जो कि उस कैरेक्टर, के लिए प्यार और सहानुभूति पैदा करें, या कम से कम उन बातों को समझे हर एक व्यक्ति को कुछ ऐसे लक्ष्य के लिए प्रयास करना चाहिए जो सकारात्मक हो। उसे तैयारी के लिए मेहनत करनी चाहिए, प्रदर्शन के लिए नहीं! आपको तैयारी को अपने अंदर उतार लेना चाहिए, इसे उस व्यक्ति को आकार देने दें, जो आप हैं, फिर अपने आप को ऐसे अनुशासन में रखें जिससे कि जब आप काम शुरू करना पक्का कर लें तो खुद की सुनते हुए तैयारी का विचार ही एकतरफ हो जाए।

इस पन्ने पर कोई हेडिंग नहीं है और ये पीछे के पन्नों की बात का विस्तार है। इसमें तीर के निशान के साथ पांच एक्शन पाइंट्स हैं – हमेशा अपने को ध्यान में रखकर काम करो – अपनी तैयारी से इस बात को परख लें कि आप किस तरह के इंसान हैं। आप क्या हैं – परिवर्तनशील? अभिमानी? विनम्र या तर्क करने वाले ? आप ऐसी कौन सी कोर बातें अपने अंदर भरते हैं जो आपको मटेरियल यानी भौतिक चीजों से अलग करती हैं। – किसी काम की शुरुआत में आप कितने इमोशनली कनेक्ट होते हैं। कोई भी एक्शन लेने से पहले, अपनी एक्टिविटी पर 30 से 60 सेकंड तक नजर रखें। – आपको कौन सी चीज आगे लेकर जाती है? आपको कुछ पूरा करने के लिए क्या चाहिए? उसे संभव बनाइये (ऊर्जा से भरें)। हमेशा कोर का चुनाव कीजिए, किसी भी परिस्थिति में जितना हो सके खुद लॉजिकल और क्रेडिबल बनाइये।