【LIVE VIDEO】 सुशांत सिंह हत्याकांड में नया खुलासा: डॉ सुब्रमण्यम स्वामी का धमाका,जिसका नाम उछल रहा,वो सिर्फ हीरोइनों से दोस्ती तक

ट्रेंडिंग
सुशांत अपने मुंबई स्थित फ्लैट में मृत मिले थे। इस मामले में मुंबई पुलिस की जाँच से असंतुष्‍ट सुशांत के पिता ने पटना में एफआइआर दर्ज कराई। इसमें उन्‍होंने बेटे की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती व उनके परिवार पर धन उगाही, ब्‍लैकमेल, सुसाइड के लिए उकसाने आदि के कई गंभीर आरोप लगाए। इस मामले की जाँच के लिए जब बिहार पुलिस मुंबई पहुँची तो वहाँ उसे असहयोग का सामना करना पड़ा।
सुशांत सिंह राजपूत केस में उनकी गर्लफ्रेंड रहीं रिया चक्रवर्ती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट को फैसला सुनाना है। रिया में पटना में दायर एफआईआर को मुंबई ट्रांसफर करने की बात कही है। सीबीआई ने कहा कि इस मामले से जुड़ी ज्यादातर चीजें मुंबई में ही हुई हैं, ऐसे में यह बिहार पुलिस की जांच क्षेत्र में नहीं आता है। हमें और ईडी को जांच करने दी जाए। इससे पहले बिहार पुलिस ने कहा कि हमारे एसपी विनय तिवारी मामले की जांच के सिलसिले में 2 अगस्त को मुंबई पहुंचे थे, लेकिन उन्हें क्वारैंटाइन के नाम पर हिरासत में ले लिया गया। बिहार पुलिस यह भी आरोप लगाया कि मुंबई पुलिस ने 4 सदस्यीय बिहार एसआईटी को किसी भी तरह की जांच करने की अनुमति नहीं दी। पटना में सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया पर एफआईआर दर्ज कराई थी। इसमें कहा गया था कि एक्ट्रेस ने सुशांत को आत्महत्या के लिए उकसाया था।
रिया के कॉल डिटेल्स हाथ लगे हैं. इनमें सुशांत की मौत से एक दिन पहले, सुशांत की मौत वाले दिन और सुशांत की मौत के एक दिन बाद के डिटेल्स काफी महत्वपूर्ण हैं. दरअसल, यूं तो रिया 8 जून को सुशांत का घर छोड़कर चली गई थीं लेकिन सुशांत के पिता ने उनके खिलाफ एफआईआर कर दी जिसके बाद से मामला काफी गर्माता जा रहा है.
रिया के घर छोड़कर जाने के बाद सुशांत से कोई बात नहीं हुई. 8-14 जून के बीच रिया की बहुत से लोगों से बात हुई. रिया को फोन पर कई अंजान नंबरों से कॉल भी आए. वहीं बात करें सुशांत की मौत वाले दिन यानि 14 जून को सुबह रिया ने एक महिला से 1 घंटा 7 मिनट की लंबी बातचीत की. जिस समय हर जगह सुशांत की मौत की ब्रेकिंग चल रही थी तब भी रिया फोन पर किसी नंबर पर बात कर रही थीं.
रिया और सुशांत की फोन पर आखिरी कॉल
रिया और सुशांत के बीच फोन पर आखिरी बात 5 जून को हुई थी. इस दिन सुशांत और रिया की फोन पर दो बार बात हुई. पहली कॉल सुशांत ने रिया को की थी. सुशांत ने रिया को ये कॉन सुबह 8 बजकर 19 मिनट पर किया था. इस दौरान दोनों ने 1 मिनट 54 सेंकेंड बात कीं. इसके  बाद रिया के फोन पर HDFC बैंक की ओर से दो मैसेज आए. इसके बाद रिया ने सुशांत को 9 बजकर 59 मिनट पर कॉल किया. हैरान कर देने वाली ये है कि इस दौरान महज 3 सेकेंड की बातचीत हुई. फोन पर यही 3 सेकेंड की थी रिया और सुशांत की आखिरी बातचीत.
सुशांत की मौत से पहले आखिरी रात रिया के पांच कॉल्स
13 जून 2020 की रात रिया ने आखिरी कॉल रात 9 बजकर 43 मिनट पर किसी एयू नाम से रजिस्टर्ड नंबर पर की थी. इस दौरान रिया ने शख्स से 1 मिनट 38 सेकेंड बात की.
इससे पहला कॉल रिया ने इस रात 9 बजकर 21 मिनट पर किसी रूपा चड्ढा नाम की महिला को किया था. इस कॉल पर रिया ने 7 मिनट 8 सेकेंड लंबी बात की थी.
इससे पहले इसी रात रिया ने कास्टिंग डायरेक्टर निशा चिटालिया से बातचीत की थी. रात 8 बजकर 53 सेकेंड पर हुई ये बातचीत महज 57 सेकेंड चली.
इससे पहले उसी शाम रिया ने 7 बजकर 50 मिनट पर भी निशा से ही फोन पर बात की थी. इस दौरान दोनो के बीच 1 मिनट की बात हुई थी.
निशा से हुई दो बात बातचीत के बीच रिया ने प्रोड्यूसर-डायरेक्टर इंद्रजीत नातोजी को 8 बजकर 26 मिनट पर फोन किया था. ये बातचीत 23 मिनट 14 सेकेंड लंबी थी.
14 जून की रिया की कॉल डिटेल्स
सुशांत सिंह राजपूत की मौत के दिन रिया चक्रवर्ती को मोबाइल फोन पर 7 कॉल्स आए, 25 मैसेज आए और इस दिन रिया ने अपने फोन से 9 कॉल्स दूसरे लोगों को किए.
सुशांत की मौत वाले दिन सुबह 7 बजकर 38 मिनट पर राधिका मेहता नाम की शख्स के मोबाइल नंबर पर रिया के मोबाइल से कॉल किया गया. इस दौरान 30 मिनट 55 सेकेंड लंबी बातें हुईं.
इसके बाद फौरन रिया फिर से 8 बजकर 8 सेकेंड पर राधिका मेहता को कॉल करती हैं. इस बार दोनों के बीच फिर से 30 मिनट लंबी बातचीत होती हैं.
तीसरी बार रिया 8 बजकर 38 मिनट फिर से राधिका मेहता को कॉल करती है और इस बाक दोनों के बीच 5 मिनट 41 सेकेंट की बाते होती हैं. सुशांत की मौत वाले दिन रिया ने राधिका मेहता नाम की महिला से 1 घंटा 36 सेकेंड बाते की. यहीं वो शख्स है जिससे रिया से सुशांत की मौत से 24 घंटे पहले और 24 घंटे बात सबसे ज्यादा लंबी बातचीत की.
बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी अपने तेज तर्रार अंदाज के लिए जाने जाते हैं। बेबाकी से बोलना उनकी फितरत है। सुशांत सुसाइड केस में भी स्वामी एक सक्रिय भूमिका निभाते नजर आ रहे हैं। 2 अगस्त को “विराट हिंदुस्तान संगम” के साथ एक लाइव प्रश्न और उत्तर सत्र में बात करते हुए, उन्होंने आरोप लगाया कि जो सबूत उन्होंने एकत्र किए हैं, उससे यह स्पष्ट होता है कि कोई सीएम (उद्धव ठाकरे) को डराने की कोशिश कर रहा है।
उन्होंने कहा, “कोई उनके बेटे (आदित्य ठाकरे) के नाम को इस मामले में खींचने की कोशिश कर रहा है, लेकिन मेरे पास मौजूद सबूतों के आधार पर मैं आपको आपको बता सकता हूँ कि उसका बेटा अभिनेत्रियों के साथ हो सकता है, मगर उसका सुशांत की मौत से कोई लेना-देना नहीं है।”
उन्होंने इंटरव्यू में आईपीएल सहित विभिन्न विषयों पर अपने विचार व्यक्त किए। जैसे कि बॉलीवुड में “माफिया” और सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु।
स्वामी ने आरोप लगाया कि जो व्यक्ति इस मामले में शामिल है वह संभवत: किसी और का बेटा है, जिसका नाम लेने की स्थिति में वे नहीं है क्योंकि उनके पास पर्याप्त सबूत नहीं हैं। उन्होंने दावा किया कि उनके पास ऐसे शख्स के बेटे के खिलाफ सबूत है जोकि बहुत पावरफुल है। जिसका नाम बाहर आने पर वह सिस्टम को काफी प्रभावित कर सकता है।
उन्होंने कहा, “हमारे पास एक ऐसी स्थिति है जहाँ राजनेता, गैंगस्टर और सिनेमा के सितारे जिनको लोग सम्मान देते हैं, उन लोगों ने एक कार्टेल बनाया है जो यह सुनिश्चित करना चाहता है कि सबसे खराब इंसान हमारे अभिनेता और अभिनेत्री बनें।
वहीं कोई और शख्श जो अपने साथ कुछ शालीनता, कुछ शैक्षिक पृष्ठभूमि, और कुछ नैतिकता लेकर आता है उन्हें हटा दिया जाता है। उन्हें (फिल्मों में) रोल नहीं दिया जाता है। इसके अलावा उनकी हत्या कर दी जाती है। यह एक ऐसी चीज है जिसे हम अपने जैसे लोकतांत्रिक देश में स्वीकार नहीं कर सकते।
स्वामी ने कहा कि वह सुशांत सिंह को न्याय दिलाने के मामले में लोगों द्वारा उठाई जा रही आवाज को देख कर खुश है। खासकर जब उन्होंने घोषणा की कि वह भी इस मामले में पूरा सहयोग देंगे। भाजपा सांसद ने कहा कि, उन्होंने ईशान सिंह को अदालत में सहायता के लिए नामित किया था। इसके साथ ही कानून के तहत जाँच में भी सहयोग की बात कही।
उन्होंने कहा कि सरकार को न केवल केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) से मामले की जाँच के लिए कहना चाहिए बल्कि राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) को भी शामिल करना चाहिए क्योंकि इस मामले में दाऊद का एक आतंकवादी एंगल भी है।
सीबीआई द्वारा मामले की जाँच के निर्देश के पहले यह प्रश्न और उत्तर सत्र हुआ था। वहीं जब 5 अगस्त को अटॉर्नी जनरल ने भारत के सर्वोच्च न्यायालय को सूचित किया कि भारत सरकार पहले ही सीबीआई को इस मामले को उठाने का निर्देश दे चुकी है, तो स्वामी ने ट्वीट किया और कहा, “केंद्र ने SC को सूचित किया है कि सुशांत मामले को सीबीआई को सौंप दिया गया है। क्या मैंने अपनी प्रतिबद्धता पूरी कर ली है और मैं स्वतंत्र हूँ? “
फिर, बिहार सरकार की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने यह जाँच सीबीआइ को सौंप दी। वहीं अब सोशल मीडिया पर स्टन गन थ्योरी सामने आई है, जिसे एक यूजर ने सोशल मीडिया पर डाला। वहीं इस थ्योरी को मद्देनजर रखते हुए बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सुशांत सिंह राजपूत मृत्यु मामले की एनआईए जाँच की माँग की है। वहीं शेखर सुमन ने रिया के खिलाफ आवाज बुलंद करते हुए उसकी गिरफ्तारी की माँग की थी।