कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद दोनों बीजेपी में पका रहे अपनी खिचड़ी -राहुल गांधी

ट्रेंडिंग

कांग्रेस की कुंडली मे आजकल शनि की साढ़ेसाती चल रही है,कही से कुछ भी ठीक नही चल रहा है MP में बनी बनाई सरकार गिर गयी और कई विधायको ने कांग्रेस पार्टी का दामन छोड़ दिया है कांग्रेस के अंदर अब लोग खुलकर राहुल गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाने लगे है और इससे गांधी परिवार का सरदर्द बढ़ता जा रहा है ताजा घटना ने तो सबको हिलाकर रख दिया है

कांग्रेस में शीर्ष नेतृत्व में बदलाव की मांग के बीच सोमवार को वर्किंग कमेटी की बैठक हुई। बैठक में राहुल गांधी ने 23 नेताओं द्वारा लिखी गई चिट्ठी को लेकर नाराजगी जताई है। राहुल ने पत्र के समय को लेकर सवाल उठाए हैं। राहुल ने कहा, नेतृत्व में बदलाव की मांग ऐसे वक्त पर क्यों कि गई, जब सोनिया गांधी एम्स में भर्ती थीं।

राहुल ने कहा, ऐसा वक्त क्यों चुना गया जब पार्टी मध्य प्रदेश और राजस्थान में लड़ाई लड़ रही थी। राहुल ने कहा, जिस तरह से चिट्ठी को लीक किया गया, उससे उन्हें ठेस पहुंची। इतना ही नहीं उन्होंने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर भाजपा के साथ गठबंधन का आरोप लगाया। इस पर गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने जवाब भी दिया।

आरोप सही साबित हुए तो इस्तीफा दे दूंगा- आजाद
राहुल के आरोपों पर राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा, अगर भाजपा के साथ गठबंधन के आरोप सही साबित होते हैं। तो वे सभी पदों से इस्तीफा दे देंगे।

कपिल सिब्बल ने उठाए सवाल
कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, राहुल गांधी कह रहे हैं कि हम लोग भाजपा के साथ मिले हैं। उन्होंने आगे लिखा, राजस्थान हाईकोर्ट में कांग्रेस का पक्ष रखा। मणिपुर में पक्ष रखा। 30 साल की राजनीति में कभी भाजपा के पक्ष में एक बयान नहीं दिया। फिर भी हम भाजपा के साथ मिले हैं।