भारतीय जवानों पर दबाव बनाने के लिए चीन ने चली नई चाल, LAC पर कर रहा ये हरकत

ट्रेंडिंग

भारत और चीन के बीच LAC पर करीब पांच महीने से तनाव की स्थिति बनी हुई है और हालात कुछ ऐसे हो गए हैं कि दोनों देशों की सेनाएं इस समय सीमा पर आमने-सामने हैं।

LAC पर जारी तनाव के बीच चीन ने भारत के खिलाफ एक और चाल चली है। यह चाल हमारे जवानों को मानसिक दबाव में लाने के लिए चली गई है। दरअसल, चीन ने एलएसी पर फिंगर-4 इलाके में लाउडस्पीकर लगाए हैं। इन लाउडस्पीकर पर चीन पंजाबी गाने भी बजा रहा है। कहा जा रहा है कि चीन लाउडस्पीकर के जरिए अब भारतीय सैनिकों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है।

न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, फिंगर-4 एरिया में चीन की सेना ने लाउडस्पीकर लगाए हैं। सूत्रों का कहना है कि जहां चीनी सेना ने लाउडस्पीकर लगाए हैं, वह इलाका हर पल भारतीय सैनिकों की लगातार निगरानी में है। संभव है कि चीन हमारे सैनिकों को विचलित करने या दबाव बनाने के लिए इस तरह की चाल चल रहा है।

दरअसल, यहां भारत की ओर से तैनात सैनिकों में सिख सौनिक भी शामिल हैं। ऐसे में कहा जा रहा है कि चीन की सेना मानसिक दबाव बनाने के तहत इस तरह के गाने बजा रही है। बता दें कि फिंगर-4 एरिया ऐसे इलाका है, जहां भारत और चीन की सेनाओं के बीच टकराव के हालात बने हुए हैं।

भारत और चीन के बीच करीब पांच महीने से तनाव की स्थिति बनी हुई है और हालात कुछ ऐसे हो गए हैं कि दोनों देशों की सेनाएं इस समय सीमा पर आमने-सामने हैं। शुरुआत में चीनी सेना ने घुसपैठ करने की कोशिश की थी लेकिन अब चीन की हर कोशिश को नाकाम करने के लिए Indian Army ने ऑपरेशन ‘स्नो लेपर’ (Operation Snow Leopard) चलाया है।

इस ऑपरेशन ने चीन की हर चाल को बेनकाब कर दिया है। ऑपरेशन ‘स्नो लेपर्ड’ के तहत LAC के पास रणनीतिक तौर पर मजबूत पहाड़ियों की पहचान की गई। इन पहाड़ियों के दम पर सीमा पर भारत को ना सिर्फ युद्ध की परिस्थितियों के लिए मदद मिली, बल्कि सामरिक तौर पर चीन से कुछ कदम आगे बढ़ा दिया। जब ऑपरेशन को अंजाम देने की बारी आई तो ऐसी टीम का गठन किया गया, जो ऊंची पहाड़ियों में लड़ने में सक्षम हो।

हर टीम को पहाड़ी पर कब्जा करने और सप्लाई चेन को सुचारू रूप से जारी रखने का टास्क दिया गया। इस ऑपरेशन के दौरान सेना ने पैंगोंग झील पर साउथ, नॉर्थ इलाके में कब्जा जमाया है। साथ ही बॉर्डर की कुछ अन्य महत्वपूर्ण जगहों पर अपनी पैठ बना ली है। यही वजह है कि चीन हमारे जवानों को कमजोर करने और मानसिक दबाव बनाने के लिए इस तरह के पैंतरे अपना रहा है।