जम्मू कश्मीर को लेकर एक और बड़ा क़ानून पास हो गया, अमित शाह हुए खुश

ट्रेंडिंग

वैसे तो अब जब से 370 हटा है उसके बाद से जम्मू कश्म्मीर एक तरह से भारत का अभिन्न अंग पूरी तरह से हो गया है और अब दोनों के ही बीच में कोई भी दरार या फिर दीवार नही रह गयी है. ये अपने आप में आप भी जानते और समझते होंगे. अब जब इतना हो गया है तो जो मूलभूत रूप से यहाँ पर बदलाव जो क़ानूनन होने चाहिए वो भी तो किये जाने चाहिए. ऐसा ही एक क़ानून अभी हाल ही में संसद में पास हो गया है जो कि सदन से जुडा हुआ है.

हिंदी और बनी कश्मीर की आधिकारिक भाषा, शाह ने जतायी ख़ुशी
कश्मीर के लिए आधिकारिक भाषा का विधेयक सदन से पास हो गया है जिसके बाद में अब हिंदी, अंग्रेजी, कश्मीरी, डोगरी और उर्दू को कश्मीर की आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया जाएगा. अब ज्यादातर काम कश्मीर के हिंदी भाषा या फिर अंग्रेजी भाषा में ही होंगे जो कि एक बहुत ही बड़े स्तर पर बदलाव कहा जा सकता है. अब तक वहां की लोकल पार्टिया कश्मीर को ग्लोबल होने से रोकने की कोशिश में थी. अमित शाह ने बाकायदा ट्वीट करके इस पर ख़ुशी जतायी है.

शाह कहते है कि जम्मू कश्मीर के लोगो के लिए आज का दिन बड़ा ही महत्त्वपूर्ण है. जम्मू कश्मीर की आधिकारिक भाषा का विधेयक पास हो गया है ये वहाँ के लोगो का एक लम्बे समय से देखा जा रहा सपना है. अब से कश्मीरी, डोगरी, उर्दू, हिंदी और अंग्रेजी वहां की आधिकारिक भाषा होगी. इससे क्षेत्र का जुड़ाव देश के बाकी इलाको से बढेगा जो हिंदी और इंग्लिश भाषा को ज्यादा बोलते है.

अब ऐसे में कश्मीर को लेकर जो भी धीरे धीरे बदलाव हो रहे है वो अपने आप में काफी बड़ी बात है. वही जो लोग पहले कश्मीर में अपनी मर्जी के बिना तिनका भी नही हिलने दे रहे थे अब उन महबूबा आदि को कुछ बोलने तक नही दिया जा रहा है.