LoC पर बन रहे हैं युद्ध के हालात, पाकिस्‍तानी गोलीबारी में 3 जवान शहीद

ट्रेंडिंग

नई दिल्‍ली: चीन से लद्दाख में तनाव के बीच पाकिस्‍तान भी सीमा पर लगातार भारत के साथ युद्ध के हालात पैदा करने में लगा हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार, जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान द्वारा भारी गोलाबारी के दौरान अलग-अलग घटनाओं में भारतीय सेना के तीन सैनिक शहीद हो गए है, जबकि पांच अन्य घायल हो गए।

सेना ने कहा कि पाकिस्तान को उचित जवाब दिया जा रहा है, जो मोर्टार का इस्तेमाल भारतीय चौकियों को निशाना बनाने के लिए कर रहा है। इस बात पर कोई स्पष्टता नहीं है कि पाकिस्तान सेना को कोई हताहत हुआ है या नहीं।

रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि मनकोट और कृष्णाघाटी सेक्टरों में छोटे हथियारों की गोलीबारी और मोर्टार की गोलाबारी में बुधवार रात को युद्धविराम का उल्लंघन शुरू हुआ। आज सुबह उत्तरी कश्मीर में कुपवाड़ा जिले के नौगाम सेक्टर में पाकिस्तानी सेना ने मोर्टार से गोलीबारी शुरू कर दी, जिमें दो भारतीय सैनिक शहीद हो गए और चार अन्य घायल हो गए।

इससे पहले, पुंछ सेक्टर में एक सैनिक शहीद हो गया था और पाकिस्तान की सेना द्वारा संघर्ष विराम का उल्लंघन करने के बाद एक अन्य घायल हो गया था। पाकिस्‍तान की तरफ से भारतीय चौकियों पर भारी गोलीबारी शुरू कर दी थी। पिछले पांच दिनों से पाकिस्तान पुंछ के गांवों को निशाना बना रहा है, जिसमें मंगलवार को कुछ पशु घायल हुए थे।

अधिकारियों ने कहा इससे पहले 5 सितंबर को सेना का एक जवान शहीद हो गया था, जबकि एक अधिकारी सहित दो अन्य घायल हो गए थे। पाकिस्तानी सेना ने राजौरी जिले के सुंदरबनी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के साथ भारी गोलाबारी और मोर्टार के गोले दागे थे। 2 सितंबर को राजौरी के केरी सेक्टर में पाकिस्तानी सेना द्वारा एक और संघर्ष विराम उल्लंघन में एक जेसीओ (जूनियर कमीशंड ऑफिसर) शहीद हो गया था।

पिछले आठ महीनों में पाकिस्तान द्वारा 3,000 से अधिक युद्धविराम उल्लंघन किए गए हैं, जो पिछले 17 वर्षों में सबसे अधिक है। अकेले सितंबर में पाकिस्तानी सेना ने 47 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया। 2003 में भारत और पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम पर सहमति व्यक्त की थी।