जंग का हुआ ऐलान-: भारत ने दुश्मन देशों को दिया यु’द्ध का…….,कहा-: अब !!!!

ट्रेंडिंग

पूर्वी लद्दाख सीमा पर चीन की तरफ से चल रही तनातनी को देखते हुए भारतीय वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया का बड़ा बयान सामने आया है। वायुसेना चीफ आरकेएस भदौरिया ने कहा है कि भारत, उत्तर भारत में दोनों फ्रंट पर यु’द्ध के लिए तैयार है। मतलब की चीन और पा’कि’स्ता’न की तरफ से सीमा पर बन रहे हा’ला’तों को देखते हुए जो त’ना’वग्र’स्त स्थिति बनी हुई है, उसपर भारत हर त’रीके से तै’यार है और हर हा’लात का सा’मना करने के लिए सी’मा पर मु’स्तै’द है।

जं’ग को लेकर भी ल’लका’रा

लाइन ऑफ एक्चुअल(LAC) पर चीन की अ’ड़ियल मि’जा’ज को सबक सिखाते हुए भारतीय वा’युसे’ना ची’फ ने कहा कि राफे’ल के आने से वायु’से’ना की ताकत बढ़ी है और ये हमें आगे तक मजबूत करेगा। इससे हम जल्दी और ठोस कार्रवाई कर पाएंगे।

भारतीय सेना और वायुसेना की ओर से एक्शन

आगे उन्होंने कहा कि अगले पांच साल में तेजस, कॉम्बैट हेलिकॉप्टर, ट्रेनर एयरक्राफ्ट समेत कई अन्य ता’कत’वर ‘हथि’यार वायुसेना की ताकत बनेंगे। साथ ही उन्होंने जं’ग को लेकर भी ललकारा है।

चीफ आरकेएस भदौरिया ने कहा- वायुसेना भारत और चीन के साथ दोनों फ्रंट पर एक साथ जंग के लिए पूरी तरह से तैयार है। चीन की हर’कत के बारे में मई में ही पता लग गया था, तभी से ही भा’रती’य सेना और वा’युसे’ना की ओर से एक्शन लिया गया। अब पूरी तैयारी हो गई।

साथ ही वा’युसेना प्रमुख बोले कि ईस्टर्न फ्रंट पर वायुसे’ना मु’स्तैद है और ऐसा कोई सवाल ही नहीं होता कि ची’न हमसे किसी भी तरह से बेहतर स्थिति में हो। वक्त के साथ वायुसे’ना ने बहुत तेजी से बदलाव किए हैं और अब काफी हदतक कमियों को दूर कर लिया गया है।

से’ना पूरी तरह तैयार

आगे वायुसेना प्रमुख ने कहा कि हमने सीमा से जुड़े हर अहम हिस्से पर अपनी मौजूदगी बढ़ाई है, लद्दाख उसका सिर्फ एक हिस्सा है। ऐसे में देश को भरोसा रखना चाहिए कि उनकी से’ना पूरी तरह तैयार है।

गौरतलब है कि भारत और ची’न के बीच मई के बाद से ही सी’मा पर त’नाव की स्थिति बनी हुई है। भारतीय से’ना के साथ-साथ वा’युसे’ना ने भी लेह-लद्दाख के इ’ला’कों में अपनी मौजूदगी बढ़ाई है। वा’युसे’ना लगातार जरूरी सा’मान ले जा’ने में मदद कर रही है, इसके अलावा कई ल’ड़ाकू विमान लद्दा’ख के आ’समा’न में पै’नी नि’गाहें बनाए हुए हैं। नापा’क ह’रक’तों के साथ दु’श्म’नों का खा’त्मा होकर रहेगा।