प्राचीन काल में ता’क’त ब’ढ़ा’ने के लिए राजा महाराजा करते थे इस चीज का इस्तेमाल!

ट्रेंडिंग

हम सभी जानते हैं की प्राचीन काल में राजा महाराजा एक ही समय में कई कई पत्नियां रखते थे. एक से अधिक पत्नियां रखने के लिए पैसे के साथ साथ श’क्ति की भी आवश्यकता होती है. पुराने जमाने में एलोपैथिक दवाइयों का चलन नहीं था. आयुर्वेदिक दवाइयों के सहारे राजा महाराजा एक से अ’धि’क पत्नि भी र’ख’ते थे और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते थे. हमारे हमारे पूर्वजों की आयु हमसे अधिक होती थी. वह हम से श’क्ति’शा’ली होते थे. आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी ही एक श’क्ति’शा’ली वि’धि के बारे में जो आप के घरेलू सं’बं’धों के लिए बहुत उपयोगी होगी.

हर पुरुष अपने ता’क’त को अधिक से अधिक ब’ढ़ा’ना चाहता है. ताकि उसे बीबी के सामने श’र्मिं’द’गी न उठाना पड़े. आजकल गलत खानपान और कुछ ग’ल’त आ’द’तों के कारण नौजवानों में इस चीज की बहुत ही कमी देखी जा रही है. बहुत से ऐसे नौजवान हैं जो थो’ड़े से म’जे के लिए अपनी पूरी ता’क’त को वे’स्ट कर देते हैं. जो कि बाद में रि’क’व’र होने में बहुत टाइम लग जाता है. क्या आपने कभी कभी सोचा है कि आखिर पुराने जमाने मे राजा महाराजा एक साथ क’ई क’ई रा’नि’यों को कै’से स’न्तु’ष्ट क’र देते थे.

राजा महाराजा कुछ औषधियों का प्रयोग करते थे जिससे उनके शरीर मे का’फी ता’क’त आ जाती थी. आइये जानते हैं वह औषधि कैसे तैयार करना है. त्रिफला चूर्ण 3 ग्राम, इसके लिए आपको हरड़, आंवला और बहेड़ा आदि को 1:2:3 में मिलाकर चूर्ण बनाना है.1 ग्राम तिल का तेल, 6 ग्राम शहद. इन सबको अच्छे से मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें. जो कि बिल्कुल चयवनप्रास जैसा हो जाएगा. रात को सोने से पहले इसके एक चम्मच को दूध के साथ सेवन करें. शरीर मे इतना ताकत और जोश भर जाएगा. जिसकी आप कल्पना भी नही कर सकते. एक बार इसे जरूर आजमा कर देखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.