100 साल पुरानी भारतीय दवा जिसे कोई नहीं पूछता था, आज कोरोना पर सबसे ज्यादा असरदार

ट्रेंडिंग

पूरी दुनिया कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है. दुनिया भर के वैज्ञानिक और डॉक्टर्स इस वायरस का तोड़ निकालने में जुटे हुए हैं लेकिन अभी तक इस वायरस को लेकर कोई पुख्ता दवा या टीके का इंतजाम नहीं हो पाया है. लेकिन 100 साल पुरानी भारतीय दवा जिसे कोई नहीं पूछता था, आज कोरोना पर सबसे ज्यादा असरदार वोही साबित हो रहा हैं. आइये आपको बताते हैं उस वैक्सीन का नाम.

पिछले चार महीनों से कोरोना वायरस के विभिन्न इलाजों के शोध में वैज्ञानिकों ने पाया है कि बीसीजी (BCG) का टीका काफी प्रभावशाली है. ऐसे देश जहां अभी भी टीबी रोग से बचाव के लिए बीसीजी का टीका लगाया जाता है, वहां कोरोना वायरस का संक्रमण अन्य देशों के मुकाबले कम फैला है. वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों पर इस टीके से फायदा कम नजर आ रहा है. लेकिन एक अच्छी बात ये है कि जिनकों टीबी के बचाव के लिए बीसीजी के टीके लगे हैं उनमें कोरोना वायरस अटैक करने में कामयाब नहीं हो पा रहा है.

उल्लेखनीय है कि भारत में राष्ट्रीय टीकाकरण के तहत सभी बच्चों को अनिवार्य रूप से बीसीजी के टीके लगाए जाते हैं. बच्चों को टीबी से बचाने के लिए ही ये टीके टीकाकरण में शामिल हैं. अमेरिका, इटली, इंग्लैंड और फ्रांस समते पूरे यूरोप में कोरोना वायरस का संक्रमण बहुत अधिक है. इन देशों ने कई दशक पहले ही बीसीजी के टीके लगाना बंद कर दिया था. अब यही टीका वैज्ञानिकों के शोध का केंद्र बना हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.