इस्लाम कबूल कर निकाह नही करने पर दलित छात्रा की बलात्कार कर हत्या,आरोपी मोहम्मद दिलशाद टेलर

ट्रेंडिंग
CopyAMP code

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर(Lakhimpur) से दलित छात्रा (Dalit Student) के साथ बलात्कार और बेरहमी से हत्या (Rape and murder) का मामला सामने आ रहा है. पुलिस जांच में सामने आया है कि आरोपी दिलशाद (Dilshad) ने पहले छात्रा को अपने प्रेमजाल में फंसा रखा था इस बीच लड़की शादी कहीं और तय हो गई, दिलशाद उस पर धर्म बदल कर निकाह का दबाव बना रहा था, लड़की इंकार कर रही थी, आख़िरी बार धोखे से मिलने के लिए बुलाकार पहले उसने रेप किया और उसके बाद चाकू से गला रेत डाला. पुलिस ने हत्यारे दिलशाद को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी ने पूछताछ के दौरान अपना जुर्म कबूल कर लिया है.

CopyAMP code

जानकारी के मुताबिक यह पूरा मामला नीमगांव थाना क्षेत्र के बेजहम कस्बा का बताया जा रहा है. जहां इंटर में पढ़ने वाली 18 वर्षीय छात्रा सोमवार को छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने तीन किलोमीटर दूर बेहजम गई थी. मंगलवार सुबह घर से एक किलोमीटर दूर तालाब के किनारे छात्र का क्षत-विक्षत शव पड़ा मिला. छात्र की गला रेत कर हत्या की गई थी. उसका मोबाइल फोन और एक चाकू मौके पर पड़ा मिला. अस्त-व्यस्त कपड़ों को देखकर दुष्कर्म की भी आशंका व्यक्त गई, जिसकी पुष्टि पोस्टमार्टम में हो गई.

टेलिरिंग का काम करता था दिलशाद, कपड़े सिलाने आती थी छात्रा

दिलशाद ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि वह चमन टेलर्स के यहां सिलाई का काम करता था. छात्रा वहां कपड़े सिलाने आती थी. एक दिन कपड़े की फिटिंग और डिजाइन पूछने के बहाने छात्रा का मोबाईल नंबर ले लिया और किसी न किसी बहाने कॉल करने लगा. धीरे-धीरे दोनों की बातचीत होने लगी और में मेलमिलाप बढ़ गया.

धर्मांतरण को नहीं हुई राजी तो रेप और बेरहमी से हत्या

दिलशाद चाहता था कि वह मुसलमान बन जाए औऱ उससे निकाह करे लेकिन छात्रा राजी नहीं हुई. बीती 24 तारीख को छात्रा उसके दुकान के इलाके में आई तो आरोपी ने उसका पीछा किया और उससे कुछ जरूरी बात करने के बहाने सुनसान जगह ले जाकर उसके साथ रेप किया उसके बाद चाकू से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी.

आरोपी ने कबूला जुर्म

वहीं इस मामले पर एसपी ने बताया कि छात्रा की दिलशाद से बात होती थी. घटना से एक दिन पहले 13 बार दोनों की बात हुई. पूछताछ के दौरान दिलशाद ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है. उसके अतिरिक्त वैज्ञानिक साक्ष्य जैसे कि फिंगर प्रिंट, रक्त रंजित कपड़े, सीसीटीवी फुटेज और मोबाईल की कॉल डिटेल्स से भी आरोपी के अपराध की पुष्टि होती है.