मोदी सरकार का बड़ा फैसला, जल भुनकर खाक हुआ चीन

ट्रेंडिंग
CopyAMP code

भारत ने जब जब चीन पर भरोसा किया है तब तब चीन कुछ ऐसी चीजे करते हुए नजर आ ही जाता है जो भरोसा तोड़ने वाला होता है और ये बात हम लोग भी बहुत ही अच्छे तरीके से जानते है. इस वजह से भारत अब अपने काम से या फिर अपने बाजार से लगभग हर जगह से चीन को थोडा बाहर रखने की कोशिश में ही रहता है ताकि चीन पर निर्भरता जितनी हो सकती है उतनी कम की जा सके. अभी हाल ही में एक और बड़ा फैसला लिया गया है जिसके कारण चीन नाराज सा हो गया है.

CopyAMP code

भारत में शुरू हुआ 5जी ट्रायल, चीनी कम्पनियों को बाहर किया गया
भारत में काफी जोर शोर के साथ में देश में 5जी का ट्रायल शुरू किया गया है और इसमें भारत के साथ में कुछ और कम्पनियां भी बढ़ चढ़कर के हिस्सा ले रही है. इसमें कई कम्पनियों को परमिट दे दिया गया है लेकिन चीन की दो कम्पनियां हुवावे और जेडटीई जो भारत के मार्किट में एंट्री करके भारत कई बिलियन डॉलर का मार्किट कब्जा कर लेना चाहती थी उनको बहार कर दिया गया है.

चीन इसके कारण से नाराज हो गया है. भारत को अभी के लिए ये डर है कि अगर चीन की कम्पनियों को भारत के फाइव जी नेटवर्क में जगह दे दी गयी तो ये भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकती है और ऐसा करना बिलकुल भी ठीक नही होगा. हालांकि अब इसमें बहाने कुछ भी लगाये जा सकते है की इस वजह से परमिशन नही दे रहे उस वजह से नही दे रहे लेकिन असल वजह सब जानते है.

आपको मालूम हो तो अमेरिका ने भी चीन की कम्पनी हुवावे को अपने देश में बैन करके रखा हुआ है. अब ये एक ऐसा समय है जहाँ पर युद्ध नेटवर्क पर भी लड़ा जाएगा और इसमें जरूरी है कि आप अपनी सुरक्षा के साथ में कोई भी समझौता किसी भी कीमत पर न ही करे.